Rahim ke dohe रहिमन रहिला की भली, जो परसै चित लाय।

Rahim ke dohe in Hindi:

रहिमन रहिला की भली, जो परसै चित लाय।
परसत मन मैलो करे, सो मैदा जरि जाय।।

Rahiman rahila ki bhali, jo parsai chit lay
Parsat man maila kare, so maida jari jay

रहीम के दोहे का अर्थ:

इस दोहे में सम्मान के महत्व को रेखांकित किया गया है। सम्मान के साथ जो कुछ मिल जाए, भले ही अकिचंन पदार्थ हो, उसे पाकर सुखद अहसास होता है। किंतु निरादर सहित दी गई मूल्यवान निधियों को स्पर्श करने की इच्छा तक नहीं होती।

रहीम कहते हैं कि यदि मन लगाकर आदर से चने भी परोसे जाएं तो भले और स्वादिष्ट लगते हैं। इसके विपरित यदि कोई मन मैला करके सामने मैदे के स्वादिष्ट व्यंजन भी परोस दे तो वे भी जले हुए प्रतीत होते हैं।

Rahim ke dohe रहीम के 25 प्रसिद्ध दोहे अर्थ व्याख्या सहित

25 Important परीक्षा में पूछे जाने वाले रहीम के दोहे :

अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं और विद्यालयी परीक्षाओं में रहीम के दोहे संबन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं जिनमें मार्क्स लाना आसान होता है किन्तु सही जानकारी और अभ्यास के अभाव में अक्सर विद्यार्थी रहीम के दोहों के प्रश्न में अंक लाने में कठिनाई अनुभव करते हैं। हमने प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाने वाले रहीम के दोहों को अर्थ एवं व्याख्या सहित संग्रहीत किया है जिनका अभ्यास करके आप पूर्ण अंक प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *