Advertisement

Rahim ke dohe राम नाम जान्यो नहीं, भइ पूजा में हानि।

Rahim ke dohe in Hindi:

राम नाम जान्यो नहीं, भइ पूजा में हानि।
कहि रहीम क्यों मानिहैं, जम के किंकर कानि।।

Advertisement

Ram nam janyo nahin, bhai puja mein haani,
Kahin rahim kyon mani hain, jam ke kinkar kaani

रहीम के दोहे का अर्थ:

ऐसे लोगों को क्या कहा जाए, जो आजीवन सांसारिक मोह माया में लिप्त रहकर भगवान का मनन नहीं करते, अंत समय में उन्हें पछतावा अवश्य होता है। क्योंकि न माया सदैव उनके संग रह पाती है और न वे खुद राम की शरण प्राप्त कर पाते हैं।

Advertisement

रहीम कहते हैं, ऐसे लोग घोर मूढ़ व अज्ञानी होते हैं, जो राम का नाम नहीं लेते, उनके नाम की महिमा से भी अपरिचित होते हैं। उनकी दृष्टि में पद, य व धन ही सबकुछ है, वे इसी को महत्व देते हैं। सच तो यह है, ऐसे लोग अपना मूल्यवान जन्म व्यर्थ गंवा देते हैं। राम के नाम में ऐसा प्रताप है कि इससे पतित जन्म भी पावन बनता है।

Rahim ke dohe रहीम के 25 प्रसिद्ध दोहे अर्थ व्याख्या सहित

25 Important परीक्षा में पूछे जाने वाले रहीम के दोहे :

अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं और विद्यालयी परीक्षाओं में रहीम के दोहे संबन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं जिनमें मार्क्स लाना आसान होता है किन्तु सही जानकारी और अभ्यास के अभाव में अक्सर विद्यार्थी रहीम के दोहों के प्रश्न में अंक लाने में कठिनाई अनुभव करते हैं। हमने प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाने वाले रहीम के दोहों को अर्थ एवं व्याख्या सहित संग्रहीत किया है जिनका अभ्यास करके आप पूर्ण अंक प्राप्त कर सकते हैं।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply