रेल टिकट होंगी महंगी, मंत्रालय लगा रही है सुरक्षा सेस

नई दिल्ली: रेल टिकटों की कीमतें बढ़ने की संभावना है क्योंकि मंत्रालय सुरक्षा सेस लागू करने की सोच रहा है| तो हो जाइये तैयार सरकार आपकी जेब फिर खाली कर सकती है| रेलवे दुर्घटना रोकथाम के उपायों को मजबूत करने के लिए रेल टिकट में सुरक्षा उपकार लगाने पर विचार कर रही है| इस कदम के मुताबिक रेलवे को चालू वित्त वर्ष में 5000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त राजस्व अर्जित करना होगा, क्योंकि बजट में बनाए गए सुरक्षा निधि में इसका योगदान है।

रेल टिकट होंगी महंगी, मंत्रालय लगा रही है सुरक्षा सेस

सुरेश प्रभु ने दिए रेल टिकट महंगे होने के संकेत

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, हमें सुरक्षा धन जुटाना होगा और लोगों को भी कुछ समर्थन देना होगा। हम सभी विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। सरकार ने अगले पांच वर्षों में 1 लाख करोड़ रुपये के विशेष सुरक्षा निधि का निर्माण करने की घोषणा की थी| जिसमें मानव रहित स्तर के क्रॉसिंग को समाप्त करने के अलावा पटरियों के उन्नयन और सिग्नल को शामिल किया जाएगा। विशेष सुरक्षा निधि में प्रत्येक वर्ष सुरक्षा उन्नयन पर 20,000 करोड़ रुपये खर्च करने की परिकल्पना की जाती है। हालांकि रेलवे ने अब तक केंद्रीय सड़क निधि से 15,000 करोड़ रुपये से 10,000 करोड़ रुपये और वित्त मंत्रालय से 5000 करोड़ रुपये प्राप्त किए हैं| जबकि राष्ट्रीय रेल सुरक्षा के लिए अपने संसाधनों से 5000 करोड़ रुपये जुटाने को कहा गया है।

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि विशेष सुरक्षा निधि के लिए 5000 करोड़ रुपये उत्पन्न करने के तीन तरीके हैं। पहला विकल्प गैर-टैरिफ संसाधनों के माध्यम से अतिरिक्त आय अर्जित करना है। दूसरी माल भाड़ा दर पर वृद्धि के माध्यम से है और तीसरा विकल्प यात्री किरायों पर सुरक्षा उपकर लागू करने के जरिए है। हालांकि अधिकारी ने कहा कि इस मुद्दे पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है। दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सुरक्षा अपग्रेडेशन की एक सख्त आवश्यकता है| जिनमे हाल के दिनों में तेजी आई है। रेलवे का उद्देश्य 2020 तक ब्रॉड गेज नेटवर्क पर सभी मानव रहित स्तर के क्रॉसिंग को खत्म करना है जिसके लिए भारी व्यय की आवश्यकता है।