नई दिल्ली: अभी हाल ही में देश हरयाणा में सरकारी और जनता की संपत्ति को जलते हुए देख चुका है. अब एक ताजा मामला सामने आया है जिसमें महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने मराठी बनाम हिंदीभाषी विवाद को लेकर अपने कार्यकर्ताओं को साफ-साफ कह दिया है कि वे नए परमिट वाले ऑटो रिक्शा जला डालें। राज ठाकरे के मुताबिक ये नए परमिट दूसरे राज्यों से आए लोगों को दिए जा रहे हैं। राज ठाकरे का निशाना मुख्य रूप से बिहार और उत्तर प्रदेश से आये मुंबई निवासियों पर है जिनकी एक बड़ी संख्या ऑटो चला कर अपना जीवन निर्वाह करती हैं.

raj thakre instigates burn outsiders auto UP Biharराज ठाकरे ने अपना कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया है कि वे नए परमिट वाले ऑटो रिक्शा जला डालें। उन्होंने कहा कि ड्राइवर और यात्रियों को बाहर निकालो और ऑटो में आग लगा दो। राज ने ये भी नसीहत दी कि सिर्फ नए परमिट वाले ऑटो ही जलाना है। यहां से बाहर निकलते ही मत जलाने लगना।

उन्होंने कहा कि ड्राइवर और यात्रियों को बाहर निकालो और ऑटो में आग लगा दो। राज ने ये भी नसीहत दी कि सिर्फ नए परमिट वाले ऑटो ही जलाना है। यहां से बाहर निकलते ही मत जलाने लगना।

राज ने कहा कि संघर्ष कभी खत्म नहीं होता। ये हमेशा चलता रहता है। राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी से बेहतर तो कांग्रेस की सरकार थी। सरकार में सिर्फ चेहरे बदल गए लेकिन काम अब भी वैसे ही शुरू हैं। महाराष्ट्र में रहने वालों को मराठी आनी ही चाहिए।

राज ने कहा कि 70 हजार ऑटो परमिट परप्रांतियों को देने की तै़यारी चल रही है। राज इस मुद्दे पर कोर्ट के फैसले को भी मानने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने कहा कि जजों को अखबार और न्यूज चैनल देखकर फैसले नहीं सुनाना चाहिए। मराठी लड़के-लड़कियों को ही ऑटो-टैक्सी के परमिट मिलने चाहिए।

गौरतलब है कि राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का आज 10वां स्थापना दिवस है। इसी मौके पर राज ठाकरे पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। मुंबई के ष्णमुखानंद हॉल में ये कार्यक्रम आयोजित किया गया।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें