नई दिल्ली: देश में बढ़ती असुरक्षा को ध्यान में रखते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बैठक बुलाई है| हालांकि बैठक का अंतिम एजेंडा अभी तक तय नहीं हुआ है| लेकिन कुछ अधिकारियों ने कहा कि गाय की जागरूकता के नाम पर “हिंसा की घटनाओं” में तेजी से बढ़ोतरी के अलावा, समग्र आंतरिक सुरक्षा परिदृश्य और “गृह मंत्रालय से संबंधित मुद्दों” पर चर्चा की जाएगी।

राजनाथ सिंह ने गौ रक्षा के नाम पर गुंडागर्दी करने वालो को दी नसीहत

गाय जागृति, सांप्रदायिक दंगे भड़काने और युवाओं के कट्टरपंथ के नाम पर हिंसा की बढ़ती घटनाओं के बीच केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह पहली बार 3 जुलाई को राज्यों और संघ राज्य क्षेत्रों के गृह मंत्रियों के साथ परामर्श लेंगे। अधिकारियों ने कहा संभावना है कि कुछ मुख्य मंत्रियों जो गृह पोर्टफोलियो का अतिरिक्त प्रभार रखते हैं, बैठक में उपस्थित रहेंगे। पिछले साल अगस्त में गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए एक सलाह जारी करी थी| उनसे गाय सुरक्षा के नाम पर कानून अपने हाथों में लेने वालों के खिलाफ “सख्त कार्रवाई” करने को कहा था।

राजनाथ सिंह ने आंतरिक सुरक्षा के लिए राज्य और केन्द्र की बुलाई बैठक

अधिकारियों ने बताया कि सेल्फ स्टाइल वाले गौ रक्षको से जुड़े दंगों और जनसंहार हिंसा की घटनाओं के लिए ये बैठक अहम् होगी । रविवार को राजस्थान के बाड़मेर में गाय रक्षको ने तमिलनाडु सरकार के अधिकारियों पर हमला किया| जो राज्य के पशुपालन विभाग जैसलमेर से खरीदे गए 50 गायों और 30 बछड़ों को एक ट्रक मे ले जा रहे थे। इससे पहले एक 55 वर्षीय डेयरी किसान पहलू खान, जो कि गाय को परिवहन के लिए अलवर ले जा रहा था| उस पर कुछ गौ रक्षको ने हमला कर दिया और उसकी मौके पर ही मौत हो गए थी|

गृह मंत्रालय के अधिकारिओ का क्या कहना है इस बैठक के बारे मे

गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि अतिरिक्त सचिव की अध्यक्षता में एक समिति, सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर युवाओं के बीच कट्टरपंथ और अंतरराज्यीय समन्वय की जांच के लिए अंतिम रूप देगी । दूरदराज के इलाकों के अलावा 3 जुलाई को विज्ञान भवन में जम्मू-कश्मीर, सीमा पार आतंकवाद, माओवादियों और अन्य मुद्दों के कारण हुए हिंसा के चलते हुए दिन-भर की बैठक में चर्चा होने की संभावना है।

एनडीए सरकार के तहत यह पहला ऐसा सम्मेलन होगा. जहां सभी गृह मंत्री देश में सुरक्षा की स्थिति पर चर्चा करेंगे। यूपीए शासन के दौरान, आंतरिक सुरक्षा के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए गृह मंत्रालय हर साल मुख्यमंत्रियों की एक सम्मेलन को बुलाते थे। इस्लामी स्टेट संगठन के प्रति निष्ठा के कारण आत्म-कट्टरपंथी युवाओं का प्रसार भी बैठक के दौरान किया जा सकता है।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Pankaj Sharma
देश की राजनीति से जुडी ख़बरों पर कड़ी नजर रखते हैं. फिल्में देखने का है शौक. नयी जगहों पर घूमना अत्याधिक पसंद