“साइंस ही सबकुछ नहीं होता”, राजस्थान हाई कोर्ट के जज साहब ने फिर दिया बयान

Advertisement

जयपुर : गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने का आदेश देने वाले राजस्थान हाई कोर्ट के पूर्व जज महेश चंद्र शर्मा ने एक बार फिर से अजीबोगरीब बयान दे दिया है.

rajsthan highcourt judge

इससे पहले उन्होंने कहा था कि मोर को इसलिए राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया है क्यों कि मोर सेक्स नहीं करता तथा मोरनी अपने आंसू पी कर बच्चे पैदा करती है.

Advertisement

एक इंटरव्यू के दौरान जब उनसे कहा गया कि विज्ञानं के अनुसार मोर और मोरनी एक दुसरे को आकर्षित करते हैं तथा प्रजनन कि क्रिया द्वारा बच्चे पैदा करते है.

इस पर पूर्व जज महेश चंद्र शर्मा ने लगभग झुंझलाते हुए कहा “वैज्ञानिक सबूत ही सबकुछ नहीं होता, धार्मिक सबूतों को देखिये, भगवत पुराण में लिखा है कि मोर सेक्स नहीं करते”

जब उनसे पुछा गया कि इन सब बयानों के पीछे क्या उनकी कोई राजनितिक महत्वाकांक्षा है तो उन्होंने साफ़ तौर पर मना कर दिया और कहा कि उनकी सिर्फ धार्मिक महत्वाकांक्षा है और वो आगे अपना जीवन पूजा पाठ में लीन करेंगे.

Advertisement