राकेश मारिया को शीना बोरा मर्डर केस में खास रूचि लेने के कारण पुलिस कमिश्नर पद से जाना पड़ा ?

Advertisement

राकेश मारिया, 1981 बैच के आई पी इस ऑफिसर, और पूर्व मुंबई पुलिस कमिशनर ने शीना बोरा हत्या मामले में जिस तरह से पर्सनल रूचि दिखाई, उससे उनका जाना तय ही था। यह केस दरअसल राकेश मारिया के पर्सनल और प्रोफेशनल मामलों को मिक्स करने का क्लासिक उदाहरण बन गया था। आज तक किसी भी मेट्रो शहर के पुलिस चीफ ने इस तरह का इंटरेस्ट किसी केस में नहीं लिया होगा जैसा कि राकेश मारिया इस केस में ले रहे थे।

राकेश मारिया की पीटर मुखर्जी से दोस्ती किसी से छुपी नहीं है। खासकर पेज 3 पार्टियों में आने जाने वाले जानते हैं कि दोनों के ताल्लुकात बहुत घनिष्ठ रहे हैं।

Advertisement

लेकिन इस मामले में राकेश मारिया ने पर्सनल रूचि को एक नए स्टार तक पहुंचा दिया जब उन्होंने मुख्य अभियुक्त से खुद १२ घंटे तक लॉक उप में पूछताछ की. ऐसेकभी देखा और सुना नहीं गया है पुलिस कमिशनर रैंक का अधिकारी ऐसी पूछताछ करे जो कि साधारणतया एक जूनियर रैंक का जांच अधिकारी का काम है। इतना ही नहीं , मारिया इस केस की मीडिया के सामने लगातार इस तरह ब्रीफिंग कर रहे थे जैसे कि शीना बोरा मर्डर केस को सोल्व करना उनकी सबसे बड़ी प्रार्थमिकता हो।

Advertisement

राकेश मारिया ललित मोदी से मेलजोल के कारण भी राजनीतिक आकाओं के निशाने पर थे पर क्यूंकि ललित मोदी मामले से बहुत से बड़े राजनेताओं का नाम भी जुड़ा हुआ था इसलिए मरिया उस समय तो बच गए किन्तु शीना बोरा हत्या कांड उनके लिए नुकसानदेह साबित हुआ और उन्हें जाना ही पड़ा।

Advertisement
youtube shorts kya hai

इस मामले में ऐसा क्या खास था कि राकेश मारिया इस में इतनी व्यक्तिगत रूचि रहे थे? आखिर क्यों मुख्यमंत्री को सार्वजनिक रूप से उनकी आलोचना करनी पड़ी कि बेहतर हो अगर वो इतनी ही रूचि अन्य हाई प्रोफाइल मामलों में भी दिखाएं।

Advertisement