राष्ट्रपति चुनावः जेडी (यू) के बाद, एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को बीजेडी, टीआरएस से मिला समर्थन

नई दिल्ली: राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार और वर्तमान बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद देश के अगले राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं| विपक्ष का कोविंद के नामांकन के लिए समर्थन और सहमति बन गई है। मिडिया खबरों के अनुसार जेडी (यू) के बाद, बीजेडी और टीआरएस दोनों ने अपना समर्थन घोषित किया है। वो एनडीए के साथ है|

जेडी (यू) के बाद, एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविद को बीजेडी, टीआरएस से मिला समर्थन

कोविंद का नाम भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा पार्टी के संसदीय बोर्ड की बैठक में नामांकित व्यक्ति के रूप में घोषित किया गया था| जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित वरिष्ठ पार्टी नेताओं ने भाग लिया था। ब्रीफिंग के दौरान शाह ने कोविद के चुनाव के प्रति अपनी विशिष्टता व्यक्त की| उन्होंने कहा कि उन्होंने प्रमुख पार्टियों से बात की है और उन्होंने सभी को कोविद को समर्थन देने का संकेत दिया है। वही बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि रामनाथ कोविद दलित चेहरा है| इसलिए हम उनके साथ है|

इसके विपरीत कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने दावा किया कि भाजपा ने कोविद के चयन पर “एकतरफा निर्णय” लिया है। इस बीच सूत्रों के अनुसार पूर्व अध्यक्ष मीरा कुमार विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। कोविद ने राष्ट्रीय राजधानी में दिन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की।

रामनाथ कोविंद कौन है?

-कोविंद भारतीय जनता पार्टी-भाजपा से एक राजनीतिज्ञ हैं|

-उन्होंने अपनी छवि को कभी भी ख़राब नहीं होने दिया है| वह एक साफ छवि रखते है|

-वह 1994-2000 और 2000-2006 के दौरान बीजेपी के उत्तर प्रदेश राज्य से राज्यसभा के लिए चुने गए थे|

-उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा पास की हुई है|

-उन्होंने कानून की भी पढाई की है| कोविद दिल्ली में एक वकील रहे है|

-वे भाजपा दलित मोर्चा (1998-2002) के पूर्व राष्ट्रपति और अखिल भारतीय कोली समाज के अध्यक्ष हैं|

-उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता के रूप में भी काम किया|

-8 अगस्त 2015 को भारत के राष्ट्रपति ने उन्हें बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया|