अगले राष्ट्रपति के लिए अमित शाह ने कसी कमर, लिया सहयोगियों से परामर्श

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राष्ट्रपति को लेकर बैठके शुरू कर दी है| केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अरुण जेटली और वेंकैया नायडू 17 जुलाई को राष्ट्रपति के चुनाव के लिए, राजनीतिक दलों के साथ परामर्श करने के लिए अपनी अपनी कमर कस चुके है | राष्ट्रपति चुनाव के कुछ हफ्ते पहले सरकार और विपक्ष ने प्रणब मुखर्जी के उत्तराधिकारी को चुनने के लिए अपने प्रयासों को फिर से उभारा है| जिनका कार्य अगले महीने समाप्त हो जाएगा।

अगले राष्ट्रपति के लिए अमित शाह ने कसी कमर, लिया सहयोगियों से परामर्श

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, जिन्होंने राष्ट्रपति चुनावों को प्राथमिकता देने की अपनी योजना को शुरू कर दिया है| उन्होंने अगले अध्यक्ष के साथ सहयोगियों से सलाह लेने के लिए वरिष्ठ मंत्रियों के तीन सदस्यीय पैनल का गठन किया। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अरुण जेटली और वेंकैया नायडू बीजेपी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के उम्मीदवार के आसपास आम सहमति बनाने के लिए काम करने वाले समिति में शामिल हैं।

अमित शाह ने राष्ट्रपति और अरुणाचल प्रदेश चुनाव के लिए बनाई रणनीति

शाह ने अरुणाचल प्रदेश के दौरे और राष्ट्रपति के चुनावों पर चर्चा के लिए पार्टी के नेतृत्व की बैठक राष्ट्रीय कार्यकारिणी को भी हटा दिया है। एनडीए की पसंद के रूप में प्रचलित नामों के बीच झारखंड के राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू का नाम भी आया हैं। विपक्षी दलों को बुधवार को अपने उम्मीदवारों पर चर्चा करने के लिए बैठक करनी है। लेकिन इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कर्वेबॉल पर जोर देकर कहा है कि विपक्ष एक उम्मीदवार का चुनाव करेगा| तब सर्वसम्मति के उम्मीदवार को चुना जायेगा । वह कहते हैं इस पहल को सरकार द्वारा लिया जाना चाहिए।

नितीश कुमार ने उस वक़्त सबको आश्चर्य मे डाल दिया| जब उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के दोपहर के खाने मे आना उचित न समझकर अगले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मलेशियाई समकक्ष के लिए आना उचित समझा | जहा सोनिया गांधी के भोजन को एक ही पृष्ठ पर सभी विपक्षी पार्टियों को लाने के लिए एक कदम के रूप में देखा गया था। 17 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव होगा।

माना जाता है कि विपक्षी पूर्व गवर्नर गोपाल गांधी और पूर्व अध्यक्ष मीरा कुमार के पास आए हैं। सूत्रों का कहना है कि भाजपा के पास काफी उम्मीदवार है अपने अगले राष्ट्रपति के लिए |