Rat mein ghar se bahar kachra kuda nahin fenkna chahiye?

हमारी भारतीय संस्कृति में हर दैनिक कार्य से जुड़ी कोई न कोई मान्यता जरूरी है। ऐसी ही एक परंपरा है। रात के समय झाड़ू और पोंछा न लगाना। साथ ही एक मान्यता और भी है वह यह कि रात के समय घर से बाहर कचरा नहीं फेंकना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार इससे घर में अलक्ष्मी का वास होता है या लक्ष्मी रूष्ट हो जाती है।

cleaning woman with mop bucket not happyइसके पीछे वैज्ञानिक कारण यह है कि रात के समय धूल व कचरे से घर वालों को सर्दी जुकाम जैसी परेशानियां होने की संभावना बढ़ जाती है। साथ ही यदि सब लोग रात को सफाई करके घर के बाहर कचरा फेंकने लगे तो घर के चारों ओर कचरा ज्यादा जमा होने लगेगा। जिसे रातभर उस कचरे में कई तरह के जीवाणु तथा मच्छर मक्खी तेजी से जन्म लेने लगेंगे। इसीलिए यह मान्यता बनाई गई है ताकि रात के समय लोग अपने घरों से बाहर कचरा ना फेंके।

घर में हमें सुख-शांति, मान-सम्मान और धन-वैभव सहित सभी सुविधाएं प्राप्त होती हैं। अगर घर साफ-सुथरा होगा तो तन मन प्रफुल्लित रहेगा। गंदगी से भरपूर घर जहां व्यक्ति के स्वास्थ्य में नकारात्मकता का संचार करता है वहीं घर में बरकत के लिए सबसे बड़ी बाधा उत्पन्न करता है।

शास्त्रों में वर्णित है घर को सुबह ब्रह्म मूहर्त में साफ करना चाहिए। जिससे मां लक्ष्मी सुख समृद्धि के साथ घर में प्रवेश कर सकें मगर आज के बदलते प्रवेश में कुछ लोग अपनी सहुलियत के अनुसार रात या सांझ ढलें साफ सफाई करते हैं। ऐसे लोग अनजाने में दरिद्रता को अपने घर न्यौता देते हैं।

यह भी पढ़िए  कौन से उपाय हैं नींद में बुरे-बुरे डरावने सपने देखने वालों के लिए?

सूरज ढलने के बाद कचरा घर से बाहर नहीं फेंकना चाहिए और न ही घर की साफ सफाई करनी चाहिए। मान्यता है कि रात के समय कचरा बाहर फेंकने से धन का अभाव हो जाता है।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Ritu
ऋतू वीर साहित्य और धर्म आदि विषयों पर लिखना पसंद करती हैं. विशेषकर बच्चों के लिए कविता, कहानी और निबंध आदि का लेखन और संग्रह इनकी हॉबी है. आप ऋतू वीर से उनकी फेसबुक प्रोफाइल पर संपर्क कर सकते हैं.