कश्मीर में उपद्रवियों से निपटने के लिए अब सेना प्लास्टिक बुलेट का उपयोग करेगी| केंद्र की बीजेपी सरकार ने उपद्रवियों के बढ़ते हुए उपद्रव को रोकने के लिए सेना को खुली छूट दे दी है| केंद्र सरकार ने सेना को 1000 प्लास्टिक बुलेट भिजवा दी है| सेना को आदेश है कि अगर जरुरत पड़े तभी पेलेट गन का भी उपयोग कर सकती है|

कश्मीर में सेना करेगी प्लास्टिक बुलेट का इस्तेमाल
OLYMPUS DIGITAL CAMERA

केंद्र सरकार ने प्लास्टिक बुलेट के संकेत दिए थे

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पहले ही सीक्रेट वेपन के संकेत दे दिए थे| कश्मीर में पेलेट गन के इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए चल रही सुनवाई में केंद्र सरकार ने कोर्ट को बताया था| हम बहुत जल्दी एक सीक्रेट वेपन ला रहे है| जिसका इस्तेमाल पेलेट गन से पहले किया जायेगा| केंद्र सरकार ने कोर्ट को बताया जब उपद्रवियों पर बदबूदार पानी, लेजर डेजलर आदि का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता| तब सेना को पेलेट गन का उपयोग करना पड़ता है| हम बहुत जल्द प्लास्टिक बुलेट लाएंगे| जिसका प्रयोग पेलेट गन से पहले किया जायेगा|

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दलील दी थी कि जंतर-मंतर पर होने वाले आंदोलन और कश्मीर में होने वाले आंदोलन एक नहीं है| कश्मीर में उपद्रवी सेना पर ग्रेनेड बम, मॉकटेल बम, पेट्रोल बम आदि फेकते है| निजी और सरकारी सम्पत्तियो को नुकसान पहुंचाया जाता है| जिसका सेना को उत्तर देना पड़ता है| यदि सेना सख्त बर्ताव नहीं करेगी| तो भीड़ काबू में नहीं आएगी|

कश्मीर में सेना करेगी प्लास्टिक बुलेट का इस्तेमाल

पेलेट गन सेना के पास होगा आखिरी विकल्प

गृह मंत्रालय के अनुसार पहले सेना प्लास्टिक बुलेट का प्रयोग करेगी| उसके बाद भी अगर पत्थरबाज नहीं रुके तो सेना को पेलेट गन के इस्तेमाल की पूरी छूट होंगी| मंत्रालय ने आदेश दिया है कि पेलेट गन को आखिरी विकल्प के रूप में ही प्रयोग किया जाये| सेना को बोला गया है कि अगर हालत बहुत ज्यादा बिगड़ जाये, तभी वो पेलेट गन का इस्तेमाल पत्थरबाजों पर करें|

ज्ञात हो कि अंतिम बार सेना द्वारा पेलेट गन के उपयोग से काफी लोग लंगड़े-लूले हो गए थे| एक याचिकाकर्ता ने इस पर तुरंत रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली थी| कोर्ट ने याचिकाकर्ता से उपद्रवियों को रोकने का विकल्प पूछा है| याचिकाकर्ता को 2 हफ्ते के अंदर अपना जबाब देना है|

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Pankaj Sharma
देश की राजनीति से जुडी ख़बरों पर कड़ी नजर रखते हैं. फिल्में देखने का है शौक. नयी जगहों पर घूमना अत्याधिक पसंद