तमिलनाडु में सत्‍ता के लिए जारी संघर्ष के बीच शशिकला ने तामिलनाडु के राज्‍यपाल विद्यासागर राव से मिल सरकार बनाने का दावा पेश किया है. शशिकला के साथ पार्टी के 5 वरिष्‍ठ नेता भी मौजूद थें.

उस दौरान शशिकला के हाथ में एक बड़ा लिफाफा भी देखा गया था, माना जा रहा है कि इसमें उनक विधायकों की सूची थी. जिन्‍होंने मुख्‍यमंत्री पद के लिए उनकी उम्‍मीदवारी का समर्थन किया है. वहीं तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पनीरसेल्वम राजनीतिक उथलपुथल के बीच गुरुवार (9 फरवरी) को वह राज्यपाल सी विद्यासागर राव से मिले. मुख्यमंत्री के करीबी सूत्रों ने बताया कि पनीरसेल्वम ने आज यहां राजभवन में राज्यपाल से भेंट की और करीब 15 मिनट उनसे बातचीत की. हालांकि सूत्रों ने इस बात से अनभिज्ञता प्रकट की कि दोनों के बीच क्या बातचीत हुई. यह भेंट ऐसे वक्त में हुई है जब पनीरसेल्वम कह रहे हैं कि यदि जरूरत हुई तो वह मुख्यमंत्री के पद से अपना इस्तीफा वापस ले लेंगे, जो उन्होंने पिछले रविवार को दिया था.

उन्होंने शशिकला के अन्नाद्रमुक विधायक दल की नेता चुने जाने के बाद निजी कारणों का हवाला देकर मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ने की पेशकश की थी ताकि उनके लिए इस शीर्ष पद का मार्ग प्रशस्त हो. लेकिन सात फरवरी को बगावत का झंडा उठाते हुए पनीरसेल्वम ने आरोप लगाया था कि शशिकला के मुख्यमंत्री बनने के वास्ते उन्हें इस पद से हटने के लिए बाध्य किया गया.

इससे पहले कार्यवाहक मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम ने गुरुवार को एक बार फिर दावा किया कि वह विधानसभा में अपना बहुमत साबित कर देंगे. उन्होंने कहा कि विधायक अपनी अंतरात्मा की आवाज पर उनका साथ देंगे. एआईएडीएमके में अकेले पड़ते दिख रहे पन्नीरसेल्वम को गुरुवार को उस वक्त बड़ा बल मिला, जब पार्टी के प्रेसीडियम चेयरमैन ई. मधुसूदनन उनके साथ आ खड़े हुए. पूर्व में शशिकला को पार्टी नेतृत्व सौंपे जाने की वकालत करने वाले मधुसूदनन ने कहा कि उन्होंने यह फैसला अपनी अंतरात्मा की आवाज पर लिया.

इसे एआईएडीएमके में पार्टी महासचिव वी.के. शशिकला के गुट के लिए झटके की तरह देखा जा रहा है. पन्नीरसेल्वम ने अपने साथ आने के लिए मधुसूदनन की पहल का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि अन्य नेता व विधायक भी अंतरात्मा की आवाज पर उनका साथ देंगे. यहां अपने आवास पर संवाददाताओं से बातचीत में पन्नीरसेल्वम ने यह भी कहा कि राज्य की पूर्व दिवंगत मुख्यमंत्री जे. जयललिता का निवास स्थान ‘पोएस गार्डन’ स्मारक बनेगा.

दिसंबर में जयललिता के निधन के बाद फिलहाल यहां शशिकला रह रही हैं, जिनके खिलाफ पन्नीरसेल्वम ने मंगलवार (7 फरवरी) को देर रात मोर्चा खोल दिया. इससे पहले एक तमिल चैनल को दिए साक्षात्कार में पन्नीरसेल्वम ने कहा था कि वह विधानसभा में बहुमत साबित कर देंगे. उन्होंने हालांकि समर्थन देने वाले विधायकों की संख्या उजागर नहीं की.

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Mritunjay
राष्ट्रीय राजनीति में विशेष रुझान रखते हैं. कभी कभार अन्य मुद्दों पर भी अपनी राय बेबाक तरीके से रखते हैं ! विशेष जानने के लिए इनसे फेसबुक के माध्यम से जुड़ सकते हैं! हिन्दीवार्ता पर इनके रोचक लेखों को पढ़िए और दिल खोल कर शेयर कीजिये.