Advertisements

सोचति यों पुनि पात झर्यो, मुख ह्वै गयो प्यारी को पात झर्यो सो। में कौन सा अलंकार है?

सोचति यों पुनि पात झर्यो, मुख ह्वै गयो प्यारी को पात झर्यो सो। में कौन सा अलंकार है?

sochti yon puni pat jhayo mukh hai gayo pyari ko pat jhayo so mein kaun sa alankar hai

सोचति यों पुनि पात झर्यो, मुख ह्वै गयो प्यारी को पात झर्यो सो।

Advertisements

जब किसी कविता में किसी शब्द की आवृति हो और दोनों ही बार वह अलग अलग अर्थ में प्रयुक्त हुआ हो तो वहाँ यमक अलंकार होता है.। इस पंक्ति में पात शब्द की आवृति हुई है और दोनों ही बार अलग अलग अर्थ में प्रयुक्त हुआ है।

प्रस्तुत पंक्ति में यमक अलंकार का भेद:

इस पद में अभंग पद यमक अलंकार है क्योंकि इसमें शब्दों को ज्यों का त्यों प्रयोग हुआ है।

Advertisements

यमक अलंकार का अन्य उदाहरण:

आप यमक अलंकार को अच्छी तरह से समझ सकें इसलिए यमक अलंकार के कुछ अन्य उदाहरण निम्नलिखित हैं:

‘’लाली लाली डोलिया में लाली रे दुल्हनियाँ ‘’

“काली घटा का घमंड घटा “इसमें घटा शब्द का प्रयोग दो बार हुआ है जिसके दो अर्थ है बादल और घटना।

काव्य पंक्ति में अन्य अलंकार –

अलंकार के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर जाएँ:

अलंकार – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण 

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisements