Advertisement

 

स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा चलाया जा रहा एक सफाई अभियान है. हमने हिंदीवार्ता पर बच्चों के लिए बेहद सरल शब्दों में निबंध प्रस्तुत किया है.

इस निबंध को कक्षा 1,2,3,4,5,6 के छात्र किसी भी प्रतियोगिता में इस्तेमाल कर सकते हैं. यदि आपको कोई प्रश्न है तो नीचे कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं.

स्वच्छ भारत अभियान पर लघु निबंध -150 शब्दों में

swachh bharat

स्वच्छ भारत अभियान या स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत 2 अक्टूबर 2014 को भारत के वर्तमान प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी ने की थी. देश के राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी का ‘क्लीन इंडिया’ का सपना स्वच्छ भारत अभियान के माध्यम से पूरा किया जाएगा. गाँधी जी ने देशवासियों से अपने आस पास की स्वच्छता बनाने का सन्देश दिया था.

स्वच्छ भारत अभियान एक राष्ट्रीय स्तर का अभियान है जिसका उद्देश्य गली गली में साफ़ सफाई को बढ़ावा देना तथा सार्वजानिक शौचालयों का निर्माण कर खुले में शौच को बंद करना है.

Advertisement

हर साल 2 अक्टूबर को देश में विद्यालयों में कार्यक्रम रखे जाते हैं जिसमे बच्चों को साफ़ सफाई के फायदे बताये जाते हैं.  हम सभी को मिलजुल कर अपने आस पास की स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए जिससे यह अभियान सफल हो सके.

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध -200 शब्दों में 

swachh bharat mission

स्वच्छ भारत अभियान एक देशव्यापी स्वच्छता अभियान है जिसका उद्देश्य देश भर में लोगों को स्वच्छता को ले कर जागरूक करना है. महात्मा गाँधी ने सर्वप्रथम देश को अपने आस पास की स्वच्छता बनाए रखने पर शिक्षा दी थी इसलिए भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने महात्मा गाँधी की 145वीं जयंती पर 2 अक्टूबर 2004 को स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी.

इस अभियान का मुख्य उद्देश्य भारत में सार्वजनिक शौचालयों को बनवा कर लोगों को खुले में शौच करने से रोकना है जिससे खुले में फ़ैल रही गन्दगी से मुक्ति मिल सके. स्वच्छ भारत मिशन का लक्ष्य 2019 तक 1.2 करोड़ शौचालयों को बनवा कर देश को शौच मुक्त भारत घोषित करना है.

इसलिए हर साल 2 अक्टूबर को सभी स्कूलों तथा कार्यालयों में स्वच्छ भारत अभियान के लिए कार्यक्रम रखे जाते हैं और इस दिन विद्यार्थियों को स्वच्छ रहने तथा अपने आस पास की स्वच्छता बनाये रखने पर शिक्षा दी जाती है.

इस अभियान को सफल बनाने के लिए सरकार ने साफ शहरों की सूची भी जारी करने की घोषणा की थी जिससे यह पता चलता है कि कौन सा शहर सफाई में कितनी प्रगति कर रहा है.

स्वच्छता में भगवान् का वास होता है अतः हम सभी को मिलजुल कर यह कोशिश करना चाहिए कि हम अपने मोहल्ले गली तथा गाँव की सफाई में अपना पूरा योगदान दें.

Advertisement

 

Advertisement