स्वदेश प्रेम पर लघु निबंध (Hindi essay on Love for Country)

महान राष्ट्रकवि मैथिलीकारण गुप्त ने स्वदेश प्रेम के महत्व पर प्रकाश डालते हुए लिखा है-

जो भरा नहीं है भावों से, बहती जिसमें रस धार नहीं।

वह हदय नहीं है, पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं।।

वास्तव में स्वदेश प्रेम एक श्रेष्ठ भाव है। इसके बिना मनुष्यता का विकास संभव नहीं है। स्वदेश प्रेम हदय की एक ऐसी सच्ची भावना है। जिससे केवल सच्चाई और महानता ही स्पष्ट होती है। इससे ही हमारे अंदर उज्जवल और उच्चकोटि की भावनाओं का उदय होता है। इससे हम मनुष्य से देवता होने की दिशा में आगे बढ़ते हैं।

सभी को अपने देश के प्रति किसी न किसी प्रकार से प्रेम होता ही है। कोई समाज और राष्ट्र के आवश्यक कार्यों को करते हुए देश प्रेम को प्रकट करता है, तो कोई देश प्रेम को उत्पन्न करने वाले ग्रन्थों की रचना करता है। इसी तरह से कोई देश की गुलामी की बेड़ी को तोड़ने के लिए आत्मबलिदान करते हुए कभी भी पीछे नहीं हटता है। देश प्रेमी अपनी कर्त्तव्य निष्ठा का पालन करते हुए देश को विकास के पथ पर ले जाने के लिए प्रयन्त में लगा रहता है।

Hindi essay on Love for Countryदेश प्रेम का स्वरूप क्या है? देश प्रेम क्या होता है या देश प्रेम किसे कहते हैं? इस पर विचारने पर हम यही पाते हैं कि देश प्रेम हदय या मन की एक पवित्र धारा है, जिसमें गोता लगाकर के हम अपने जीवन कर्म को शुद्ध और सफल बनाते हैं। जिस देश में हम रहते हैं, उसके पशु, पक्षी, नदी, नाले, वन, पर्वत, वायु, मैदान, निवासी, बाग बगीचे आदि के साथ रहते रहते हम उससे परिचित हो जाते हैं। उसकी हर दशा से हम प्रभावित होते हैं और उसक साथ अपने जीवन व्यापार को जोड़ लेते हैं। हमारा मन तन कार्य व्यापार आदि सभी कुछ जब देश के प्रत्येक स्वरूप से प्रभावित होने लगता है, तभी हम सच्चे देश प्रेमी कहलाते हैं, अन्यथा हम जो कुछ देश प्रेम के नाम पर अपना परिचय देते हैं, वह सब कुछ नकली और दिखावटी ही तो होता है।

यह भी पढ़िए  Short Hindi Essay on Doordarshan (Television) ka Mahatva दूरदर्शन का महत्व पर लघु निबंध

देश प्रेम के महत्व को समझते हुए अनेकानेक कवियों, लेखकों और महान पुरूषों ने अपना अपना महत्वपूर्ण योगदान किया है। देश प्रेम की भावना से ही प्रभावित होकर श्रीराम ने सोने की लंकापुरी को भी धूल समान समझते हुए अपनी जन्मभूमि अयोध्यापुरी को ही महत्व दिया था और विभीषण को सोने की लंका सौंप देने में तनिक भी संकोच न ही किया था। इसी तरह से हमारे देश में और भी महान पुरूषों ने अपनी जन्मभूमि भारत के प्रति अपना अपार प्रेम प्रदर्शन करते हुए अपने अपने जीवन की तनिक भी परवाह नहीं की थी। महारानी लक्ष्मीबाई, वीरवर शिवाजी, लाला लाजपतराय, बालगंगाधर तिलक, महात्मा गाँधी, सुभाषचन्द्र बोस, वीर सावरकर, सरवल्लभाई पटेल, पंडित जवाहरलाल नेहरू, भगत सिंह, चन्द्रशेखर आजाद आदि देश प्रेम की भावना से ही प्रेरित और उत्साहित हुए महान देश प्रेमी थे। उनके देश प्रेम का आदर्श आज भी हमारे लिए प्ररेणा के रूप में हैं। कविवर जयशंकर प्रसाद ने इसी देश प्रेम की भावना से प्रेरित निम्नलिखित देश प्रेम के महत्व को अंकित करने वाली कविताएँ लिखी हैं-

अरूण यह मधुमय देश हमारा।

जहाँ पहुँच अनजान क्षितिज को मिलता एक सहारा।।

सरस तामरस गर्भ विभा पर नाच रही तरूशिखा मनोहर।

छिटका जीवन हरियाली पर मंगल कुंकुम सारा।

लघु सुरधनु से पंख पसारे शीतल मलय समीर सहारे।

उड़ते खग जिस और मुँह किए समझ नीड़ निज प्यारा।

बरसाती आँखों के बादल बनते जहाँ भरे करूणा जल।

लहरें टकरातीं अनन्त की पाकर जहाँ किनारा।

हेम कुम्भ ले उशा सवेरे भरती ढुलकाती सुख मेरे।

मंदिर ऊँधते रहते जब जगकर रजनी भर तारा।।

यह भी पढ़िए  पोंगल पर निबंध Pongal Essay in Hindi

स्वदेश प्रेम का यह अर्थ नहीं कि हम भारतमाता की मूर्ति बनाकर उसकी पूजा करते रहें या भारतमाता की जय पुकारते रहें। देश के प्रति हमें अपना कर्त्तव्य भी पूरा करना चाहिए, तभी हमारा स्वदेश प्रेम सच्चा कहलाएगा।

यदि हमें स्वदेश से सच्चा प्रेम है तो हमें एकता की रक्षा करनी चाहिए। यह तभी हो सकता है, जब हम मन से सम्प्रदाय-भेद, भाषा भेद, जाति-भेद, दंगे फसाद करते रहें, तो हमें स्वदेश प्रेम का गुणगान करने का कोई अधिकार नहीं। यदि हम राष्ट्रीय एकता तथा प्रेम की भावना का प्रसार करते हैं, तभी हम सच्चे अर्थ में स्वदेश प्रेमी हैं। जो व्यक्ति देश से, देश की सरकार से बेईमानी नहीं करता, वह व्यक्ति वास्तव में देश प्रेमी है। देश पर जब कोई संकट आ पड़े, उस समय जो देश पर प्राण निछावर करने के लिए आगे बढ़े, वहीं देश प्रेम का दावा कर सकता है।

महान राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त की ये काव्य पंक्तियों स्वदेश प्रेम की ही सत्प्रेरणा देती है-

जिनको न निज गौरव तथा, निज देश का अभिमान है।

वह नर नहीं, नर पशु निरा है, और मृतक समान है।।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
रेहान अहमद
मित्रों मेरा नाम रेहान अहमद है और मैं आप सभी के लिए भिन्न भिन्न प्रकार के निबंध लिखता हूँ! हिंदी साहित्य में अत्यधिक रूचि है जिसे हिन्दीवार्ता के माध्यम से उभार रहा हूँ! आशा है आप सभी को मेरे लेख पसंद आएँगे. किसी प्रकार की त्रुटि या सुझाव के लिए कमेंट करें या मुझसे फेसबुक पर संपर्क करें. धन्यवाद!