faiz shayari

Advertisements

ग़म-ब-दिल, शुक्र-ब-लब, मस्तो-ग़ज़लख़्वाँ चलिए – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ शायरी

ग़म-ब-दिल, शुक्र-ब-लब, मस्तो-ग़ज़लख़्वाँ चलिए – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ शायरी ग़म-ब-दिल, शुक्र-ब-लब, मस्तो-ग़ज़लख़्वाँ चलिए जब तलक साथ तेरे उम्रे-गुरेज़ां चलिए Advertisements रहमते-हक से जो [...]