मोदी सरकार की 2015 में टॉप १० उपलब्धियां

Advertisement

2015 को विदाई देते समय सभी की निगाहें 2016 यानि नव वर्ष पर लगी हुई है और सभी को आशा है की आने वाला साल भारत के लिए शुभ होगा। आइये देखते हैं कि वर्ष 2015 में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार की टॉप 10 उपलब्धियां कौन सी रहीं?

मोदी सरकार की 2015 में टॉप १० उपलब्धियां1. विदेश नीति – भारत ही नहीं , सम्पूर्ण विश्व में भारत और भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की छवि उज्जवल हुई है। पिछले एक साल में नरेंद्र मोदी ने 18 देशों की यात्रा की और विश्व के बड़े-बड़े नेताओं से मुलाकात की। इस का नतीजा है कि आज विश्व में भारत की छवि में निखार हुआ है और भारत की पहचान बढ़ी है।

Advertisement

2. सरकार का सु-सञ्चालन – मोदी की सरकार में शासन के तौर-तरीकों में बदलाव आया है और पारदर्शिता बढ़ी है। पिछली सरकार के समय का निराशाजनक माहौल का माहौल बना है। सरकार के निर्णय लेने की क्षमता का जनता और उद्योग जगत, दोनों ने स्वागत किया है।

3. कर नीति में सुधार – भाजपा सरकार ने जीएसटी बिल को पास करने की भरसक कोशिश की है। भाजपा सरकार इस बिल को आम सहमति से पास करना चाहती है और इस बिल के शीघ्र ही पास होने की आशा है। इस बिल के पास होने से उद्योग जगत को भारी लाभ होगा जिस का फायदा देश की जनता को विकास की तीव्र गति के रूप में मिलेगा।

4. मेक इन इंडिया – मोदी की मेक इन इंडिया योजना और अभियान को अभूतपूर्व समर्थन और रिस्पांस मिला है। इस के चलते युवाओं का झुकाव भारत को एक वैश्विक सुपर पावर में बदल देने की और हुआ है।

5. काले धन पर रोक – जांच एजेंसियों पर अब कोई रोकटोक नहीं है। काले धन पर रोक लगी है और मोदी सरकार के प्रयासों से हजारों करोड़ का काला धन देश-विदेश से उजागर हुआ है।

Advertisement
learn ms excel in hindi

6. बचत योजना – भारत में सभी को पेंशन का लाभ नहीं मिलता। भाजपा सरकार की अटल पेंशन योजना से भारतीय समाज का तन बना मजबूत होगा क्यों बुज़ुर्गों के लिए पेंशन का आधार बढ़ेगा। सरकार की योजनाओं से 7.5 करोड़ लघु-उद्यमियों को मुद्रा बैंक लाभ मिलेगा।

7. इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर को बढ़ावा – मोदी सरकार में 16 रुके हुए बड़े इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स पर फिर से काम शुरू हो चुका है। मोदी सरकार बड़े पैमाने पर सिचाई योजनाओं पर निवेश कर रही है जिसका सीधा फायदा देश के किसानों को मिलेगा।

8. बैंकिंग और बीमा क्षेत्र में सुधार – बैंकिंग सेक्टर में अंतर्राष्ट्रीय मंडी की वजह से जबरदस्त दबाव है। बैंकों के कामकाज में चुस्ती लाने के लिए बैंक के चेयरमैन आदि की नियुक्ति प्रोफेशनल तरीके से होने लगी है। सरकार द्वारा लागु नयी बीमा योजना मात्र कुछ ही समय में ७. करोड़ लोगों तक पहुँच चुकी है। इन बीमा योजनाओं से आम आदि को बेहद फायदा होगा।

9. वित्तीय घाटा – मोदी सरकार ने वित्तीय घाटे को कंट्रोल करने में सफलता हासिल की है। इस वर्ष में सरकार ने वित्तीय घाटे के काम करने के अपने टारगेट को पीछे छोड़ दिया है। फॉरेन एक्सचेंज रिज़र्व, ग्रोथ रिज़र्व आदि सभी क्षेत्रों में भारत की अर्थ व्यवस्था में सुधार हुआ है।

10. गुड गवर्नेन्स – गुड गवर्नेन्स और राज्य नीतियों के बीच बैलेंस आया है। घटक दलों के साथ तालमेल बढ़ा है। इस का नतीजा यह हुआ है कि भारतीय अर्थव्यवस्था में निवेश बढ़ा है।

Advertisement