यूपी निकाय चुनाव: 3 चरणों में होंगे मतदान,1 दिसंबर को आएंगे रिजल्ट

यूपी नगर निकाय चुनावो मे योगीआदित्यनाथ की होगी परीक्षा .जिस तरह से योगी सरकार ने अपनी जीत हासिल कर यूपी चुनाव मे अपना वर्चस्व दिखाया था .

 

क्या 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए योगी सरकार को नया जीवन दान मिलेगा. बहरहाल अधिसूचना के अनुसार राज्य में निकाय चुनाव तीन चरणों में होंगे. 22 नवम्बर को पहले चरण के मतदान के साथ यूपी में निकाय चुनाव की शुरुआत हो जाएगी.

राज्य निर्वाचन आयोग की अधिसूचना के अनुसार 16 नगर निगम, 198 नगर पालिका और 438 नगर पंचायत में चुनाव होंगे. दूसरे चरण का चुनाव 26 नवम्बर और तीसरा चरण 29 नवम्बर को होगा.

वोटों की गिनती 1 दिसंबर को होगी। कुल 3.32 करोड़ मतदाता इस बार निकाय चुनाव में मतदान करेंगे. चुनावों के लिए 36289 बूथ और 11,389 पोलिंग सेंटर बनाए गए हैं. चुनावों के दौरान अति संवेदशील बूथों की वेब कास्टिंग की जाएगी. चुनाव राज्य पुलिस से ही कराया जाएगा, केंद्रीय बल का उपयोग नहीं किया जाएगा.

राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक लखनऊ और कानपुर में 12.5 लाख से बढ़ाकर खर्च की सीमा 25 और बाकी नगर निगमों में 20 लाख होगी.वहीं पार्षद के लिए खर्च की सीमा बढाकर एक लाख से 2 लाख कर दी गयी है।

41 से अधिक वार्ड वाली नगर पालिका में चैयरमैन 4 लाख के बजाय 8 लाख खर्च कर सकेगा. 40 वार्ड तक यह सीमा 6 लाख होगी. वार्ड सदस्य के लिए सीमा 40 हजार से बढ़ा कर 1.5 लाख कर दी गयी है.

नगर निगम के मेयर और पार्षद पदों के चुनाव इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से होंगे, जबकि नगर पालिका परिषद और नगर पंचायत अध्यक्षों एवं सदस्यों का निवार्चन बैलेट पेपर के माध्यम से होगा.

22 नवंबर को पहले चरण के मतदान के तहत कुल 25 जिलों के 5 नगर निगम, 71 नगर पालिका और 154 नगर पंचायत में मतदान होंगे. दूसरे चरण के तहत 25 जिलों के 6 नगर निगम, 51 नगर पालिका और 132 नगर पंचायत के मतदान होंगे।

वहीं तीसरे चरण के तहत 26 जिलों के 5 नगर निगमों,76 नगर पालिका और 152 नगर पंचायत में चुनाव होंगे. अधिसूचना जारी होने के साथ ही अब राजस्व, पुलिस और नगर विकास में ट्रांसफर, नियुक्ति और प्रमोशन पर चुनावके परिणाम आने तक रोक रहेगी.

चुनाव डयूटी में लगे कर्मचारियों का तबादला नहीं हो सकेगा. साथ ही चुनाव पूरा होने तक डीएम और एसएसपी बिना आयोग की अनुमति के जिला नहीं छोड़ सकेगे.