उत्तर प्रदेश एटीएस आईएसआई रैकेट फैजाबाद, मुंबई से संदिग्ध एजेंटों की गिरफ्तारी

Advertisement

उत्तर प्रदेश एटीएस ने बुधवार को फैजाबाद से एक संदिग्ध आईएसआई एजेंट को गिरफ्तार करके मुंबई से उसके साथी को उठाते हुए जासूसी रैकेट का पर्दाफाश किया। आईएसआई द्वारा प्रशिक्षित आतंकवादियों द्वारा खुफिया सूचनाओं ने राज्य में संभावित आतंकवादी हमले की चेतावनी देने के कुछ दिनों बाद यह बात सामने आई है।

यूपी एटीएस ने चलाया संयुक्त अभियान

यूपी आतंकवाद विरोधी दस्ते (एटीएस), सैन्य खुफिया और उत्तर प्रदेश खुफिया द्वारा आयोजित संयुक्त अभियान में, आफताब अली को यहां से 120 किलोमीटर दूर फैजाबाद से उठाया गया| इसकी जानकारी शाम को आईजी एटीएस असीम अरुण ने दी। माना जाता है कि आफताब को पाकिस्तान में आईएसआई से प्रशिक्षण मिला है| वो पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारियों के साथ लगातार संपर्क में है| उन्होंने कहा हमारे पास उसके खिलाफ मजबूत सबूतों थे। आफताब के बैंक खातों में जमा भी सत्यापित किए जाएंगे – उन्होंने कहा।

Advertisement

आफताब को गिरफ्तार कर लिया गया है| एक और संदिग्ध को हिरासत में लिया गया है और पूछताछ की जा रही है। देर रात एक और बयान में, अरुण ने कहा कि उत्तर प्रदेश आतंकवाद विरोधी दस्ते ने महाराष्ट्र के समकक्ष के साथ संयुक्त अभियान में मुंबई से आफताब के सहयोगी अल्ताफ कुरैशी को गिरफ्तार कर लिया गया हैं। अल्ताफ हवाला लेनदेन में शामिल था और आईएसआई के निर्देश पर अफताब के खाते में कथित तौर पर धन हस्तांतरित किया गया था। उन्होंने कहा कि अल्ताफ से 70 लाख रुपये की नकदी आयी है आफताब के खाते में। वाजिद अली के बेटे अफताब, फैजाबाद के खसपुरा क्षेत्र का निवासी हैं।

Advertisement

यूपी एटीएस ने चलाया संयुक्त अभियान

कैंटनमेंट क्षेत्र की तस्वीरें उसके मोबाइल फोन से बरामद की गई हैं और उसके मोबाइल चैट के माध्यम से अधिक सुराग मिल रहे है।आतंकवाद विरोधी दस्ते ने कहा, आफताब भी कथित तौर पर क्षेत्र में सैनिकों की आवाजाही पर विशेष रूप से फैजाबाद और लखनऊ के बीच घनिष्ठ निगरानी रखे हुए था| एडीजी (कानून और व्यवस्था) आदित्य मिश्रा ने कहा कि आईएसआई नेटवर्क के बारे में अधिक जानकारी अभियुक्त के मोबाइल फोन के माध्यम से जानी जाएगी और अधिक गिरफ्तारियां होने की संभावना है।

Advertisement
youtube shorts kya hai

आफ़ताब कर रहा था कई सैन्य ठिकानो की रेकी

एटीएस सूत्रों ने बताया कि आफताब ने कई सेना छावनी क्षेत्रों और राज्य में रक्षा प्रतिष्ठानों पर जानकारी एकत्र की थी।उनको पाकिस्तान के उच्चायोग और आईएसआई में खुफिया अधिकारियों को लीक होने वाली सैन्य जानकारी के बारे में लगातार रिपोर्ट मिल रही थी| एजेंसी इलेक्ट्रॉनिक निगरानी के माध्यम से इस पर काम कर रही थी- सूत्रों ने कहा।

माना जाता है कि आफताब ने पाकिस्तान में आईएसआई से प्रशिक्षण प्राप्त किया था| पाकिस्तान उच्चायोग में एक अधिकारी के साथ संपर्क किया और उन्होंने नई दिल्ली में भी उससे मुलाकात की थी| उन्होंने कहा कि अधिकारी का नाम सत्यापित किया जा रहा है। बयान में कहा, वह पाकिस्तान के उच्च आयोग के साथ लगातार संपर्क में था। एक सरकारी प्रवक्ता ने आज रात कहा कि एएसपी राजेश साहनी की अगुवाई वाली टीम को सम्मानित किया जाएगा। उत्तर प्रदेश पुलिस ने आईएसआई द्वारा प्रशिक्षित आतंकवादियों द्वारा राज्य में संभावित आतंकवादी हमले की चेतावनी जारी की थी। जिसके बाद ये धर-पकड़ चल रही है|

Advertisement
Advertisement