Advertisement

निगाहें तेरी बेगानी थी, नज़रें मैं मिलाया करता था
संवरते थे तुम औरों के लिए, आईना मैं दिखाया करता था

ना जाने कब साथ तेरा हमसे छूट गया यूँ ही
राह तुम चलते थे, मंज़िलें मैं दिखाया करता था

Instagram.com/hamarikalamsei

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here