Alif Laila Kahani Bhadra purush aur tota भद्र पुरुष और उसके तोते की कहानी

Advertisement

अलिफ लैला की कहानी – भद्र पुरुष और उसके तोते की कहानी

पूर्वकाल में किसी गाँव में एक बड़ा भला मानस रहता था। उसकी पत्नी अतीव सुंदरी थी और भला मानस उससे बहुत प्रेम करता था। अगर कभी घड़ी भर के लिए भी वह उसकी आँखों से ओझल होती थी तो वह बेचैन हो जाता था। एक बार वह आदमी किसी आवश्यक कार्य से एक अन्य नगर को गया। वहाँ के बाजार में भाँति-भाँति के और चित्र-विचित्र पक्षी बिक रहे थे। वहाँ एक बोलता हुआ तोता भी था। तोते की विशेषता यह थी कि उस से जो भी पूछा जाए उसका उत्तर बिल्कुल मनुष्य की भाँति देता था। इसके अलावा उसमें यह भी विशेषता थी कि किसी मनुष्य की अनुपस्थिति में उसके घर पर जो-जो घटनाएँ घटी होती थीं उन्हें भी वह उस मनुष्य के पूछने पर बता देता था।

कुछ दिनों बाद उस भद्र पुरुष का विदेश जाना हुआ। जाते समय उसने तोते को अपनी पत्नी के सुपुर्द कर दिया कि इसकी अच्छी तरह देख-रेख करना। वह परदेश चला गया और काफी समय बाद लौटा। लौटने पर उसने अकेले में तोते से पूछा कि यहाँ मेरी अनुपस्थिति में क्या-क्या हुआ। उसकी अनुपस्थिति में उसकी पत्नी ने खूब मनमानी की थी और शील के बंधन तोड़ दिए थे। तोते ने अपने स्वामी से सारा हाल कह सुनाया। स्वामी ने अपनी पत्नी को खूब डाँटा-फटकारा कि तू मेरे पीठ पीछे क्या-क्या हरकतें करती है और कैसे-कैसे गुल खिलाती है।

Advertisement

पत्नी-पति से तो कुछ न बोली क्योंकि बातें सच्ची थीं। लेकिन यह सोचने लगी कि यह बातें उसके पति को किसने बताई। पहले उसने सोचा कि शायद किसी सेविका ने यह काम किया है। उसने एक एक सेविका को बुलाकर डाँट फटकार कर पूछा किंतु सभी ने कसमें खा-खाकर कहा कि हमने तुम्हारे पति से कुछ नहीं कहा है। स्त्री को उनकी बातों का विश्वास हो गया और उसने समझ लिया कि यह कार्रवाई तोते ने की है। उसने तोते से कुछ न कहा क्योंकि तोता इस बात को भी अपने स्वामी को बता देता। किंतु वह इस फिक्र में रहने लगी कि किसी प्रकार तोते को अपने स्वामी के सन्मुख झूठा सिद्ध करें और अपने प्रति उसके अविश्वास और संदेह को दूर करें।

कुछ दिन बाद उसका पति एक दिन के लिए फिर गाँव से बाहर गया। स्त्री ने अपनी सेविकाओं को आज्ञा दी कि रात में एक सेविका सारी रात तोते के पिंजरे के नीचे चक्की पीसे, दूसरी उस पर इस तरह पानी डालती रहे जैसे वर्षा हो रही है और तीसरी सेविका पिंजरे के पीछे की ओर दिया जला कर खुद दर्पण लेकर तोते के सामने खड़ी हो जाए और दर्पण पर पड़ने वाले प्रकाश को तोते की आँखों के सामने रह-रह कर डालती रहे। सेविकाएँ रात भर ऐसा करती रहीं और भोर होने के पहले ही उन्होंने पिंजरा ढक दिया।

दूसरे दिन वह भद्र पुरुष लौटा तो उसने एकांत में तोते से पूछा कि कल रात को क्या-क्या हुआ था। तोते ने कहा, ‘हे स्वामी, रात को मुझे बड़ा कष्ट रहा; रात भर बादल गरजते रहे, बिजली चमकती रही और वर्षा होती रही।’ चूँकि विगत रात को बादल और वर्षा का नाम भी नहीं था इसलिए आदमी ने सोचा कि यह तोता बगैर सिर-पैर की बातें करता है और मेरी पत्नी के बारे में भी इसने जो कुछ कहा वह भी बिल्कुल बकवास थी। उसे तोते पर अत्यंत क्रोध आया और उसने तोते को पिंजरे से निकाला और धरती पर पटक कर मार डाला। वह अपनी पत्नी पर फिर विश्वास करने लगा लेकिन यह विश्वास अधिक दिनों तक नहीं रहा। कुछ महीनों के अंदर ही उसके पड़ोसियों ने उसके उसकी पत्नी के दुष्कृत्यों के बारे में ऐसी-ऐसी बातें कहीं जो उस तोते की बातों जैसी थीं। इससे उस भद्र पुरुष को बहुत पछतावा हुआ कि बेकार में ही ऐसे विश्वासपात्र तोते को जल्दी में मार डाला।

मछुवारे ने इतनी कहानी कहकर गागर में बंद दैत्य से कहा कि बादशाह गरीक ने तोते की कथा कहने के बाद अपने मंत्री कहा, ‘तुम दुश्मनी के कारण चाहते हो कि मैं दूबाँ हकीम को जिसने मेरा इतना उपकार किया है और तुम्हारे साथ भी कोई बुराई नहीं की है निरपराध ही मरवा डालूँ। मैं तोते के स्वामी जैसा मूर्ख नहीं हूँ जो बगैर सोचे-समझे ऐसी बात जल्दबाजी में करूँ।’

मंत्री ने निवेदन किया, ‘महाराज, तोता अगर निर्दोष मारा भी गया तो कौन सी बड़ी बात हो गई। न स्त्री का दुष्कृत्य कोई बड़ी बात है। किंतु जो बात मैं आप से कह रहा हूँ वह बड़ी बात है और इस पर ध्यान देना जरूरी है। फिर आप के बहुमूल्य जीवन के लिए एक निरपराध व्यक्ति मारा भी जाय तो इस में खेद की क्या बात है। उसका इतना अपराध है ही कि सभी लोग उसे शत्रु का भेदिया कहते हैं। मुझे उससे न ईर्ष्या है न शत्रुता। मैं जो कुछ कहता हूँ आप ही के भले के लिए कहता हूँ। मुझे इससे कुछ लेना-देना नहीं कि वह अच्छा है या बुरा, मैं तो केवल आप की दीर्घायु चाहता हँ। अगर मेरी बात असत्य निकले तो आप मुझे वैसा ही दंड दें जैसा एक राजा ने अपने वजीर को दिया था। उस वजीर को अंतत: राजाज्ञा से मरना ही पड़ा था।’ बादशाह ने पूछा किस राजा ने वजीर को प्राण-दंड दिया और किस बात पर दिया। मंत्री ने यह कहानी कही।

अलिफ लैला की 64 कहानियों का संकलन

Alif Laila ki kahani – bhadr purush aur usake tote ki Kahani

poorvakal mein kisi gamv mein ek bara bhala manas rahata tha. usaki patni ativ sundari thi aur bhala manas usase bahut prem karata tha. agar kabhi ghari bhar ke lie bhi vah usaki amkhon se ojhal hoti thi to vah bechain ho jata tha. ek bar vah adami kisi avashyak kary se ek any nagar ko gaya. vaham ke bajar mein bhanti-bhanti ke aur chitra-vichitr pakshi bik rahe the. vaham ek bolata hua tota bhi tha. tote ki visheshata yah thi ki us se jo bhi poochha jae usaka uttar bilkul manushy ki bhanti deta tha. isake alava usmein yah bhi visheshata thi ki kisi manushy ki anupasthiti mein usake ghar par jo-jo ghatanaem ghati hoti thim unhem bhi vah us manushy ke poochhane par bata deta tha.

kuchh dinon bad us bhadr purush ka videsh jana hua. jate samay usane tote ko apani patni ke supurd kar diya ki isaki achchhi tarah dekha-rekh karana. vah paradesh chala gaya aur kafi samay bad lauta. lautane par usane akele mein tote se poochha ki yahan meri anupasthiti mein kya-kya hua. usaki anupasthiti mein usaki patni ne khoob manamani ki thi aur shil ke bandhan tor die the. tote ne apane svami se sara hal kah sunaya. svami ne apani patni ko khoob damta-fatakara ki too mere pith pichhe kya-kya harakatem karati hai aur kaise-kaise gul khilati hai.

patni-pati se to kuchh n boli kyonki batem sachchi thim. lekin yah sochane lagi ki yah batem usake pati ko kisane batai. pahale usane socha ki shayad kisi sevika ne yah kam kiya hai. usane ek ek sevika ko bulakar damt fatakar kar poochha kintu sabhi ne kasamein kha-khakar kaha ki hamane tumhare pati se kuchh nahin kaha hai. stri ko unaki baton ka vishvas ho gaya aur usane samajh liya ki yah karravai tote ne ki hai. usane tote se kuchh n kaha kyonki tota is bat ko bhi apane svami ko bata deta. kintu vah is fikr mein rahane lagi ki kisi prakar tote ko apane svami ke sanmukh jhootha siddh karem aur apane prati usake avishvas aur sandeh ko door karem.

kuchh din bad usaka pati ek din ke lie fir gamv se bahar gaya. stri ne apani sevikaon ko ajnya di ki rat mein ek sevika sari rat tote ke pinjare ke niche chakki pise, doosari us par is tarah pani dalati rahe jaise varsha ho rahi hai aur tisari sevika pinjare ke pichhe ki or diya jala kar khud darpan lekar tote ke samane khari ho jae aur darpan par parane vale prakash ko tote ki amkhon ke samane raha-rah kar dalati rahe. sevikaem rat bhar aisa karati rahim aur bhor hone ke pahale hi unhomne pinjara dhak diya.

doosare din vah bhadr purush lauta to usane ekant mein tote se poochha ki kal rat ko kya-kya hua tha. tote ne kaha, he svami, rat ko mujhe bara kasht raha; rat bhar badal garajate rahe, bijali chamakati rahi aur varsha hoti rahi. choomki vigat rat ko badal aur varsha ka nam bhi nahin tha isalie adami ne socha ki yah tota bagair sira-pair ki batem karata hai aur meri patni ke bare mein bhi isane jo kuchh kaha vah bhi bilkul bakavas thi. use tote par atyant krodh aya aur usane tote ko pinjare se nikala aur dharati par patak kar mar dala. vah apani patni par fir vishvas karane laga lekin yah vishvas adhik dinon tak nahin raha. kuchh mahinon ke andar hi usake parosiyon ne usake usaki patni ke dushkrityon ke bare mein aisi-aisi batem kahim jo us tote ki baton jaisi thim. isase us bhadr purush ko bahut pachhatava hua ki bekar mein hi aise vishvasapatr tote ko jaldi mein mar dala.

machhuvare ne itani Kahani kahakar gagar mein band daity se kaha ki badshah garik ne tote ki katha kahane ke bad apane mantri kaha, tum dushmani ke karan chahate ho ki maim doobam hakim ko jisane mera itana upakar kiya hai aur tumhare sath bhi koi burai nahin ki hai niraparadh hi marava daloom. maim tote ke svami jaisa moorkh nahin hoon jo bagair soche-samajhe aisi bat jaldabaji mein karoom.

mantri ne nivedan kiya, maharaj, tota agar nirdosh mara bhi gaya to kaun si bari bat ho gai. n stri ka dushkrity koi bari bat hai. kintu jo bat maim ap se kah raha hoon vah bari bat hai aur is par dhyan dena jaroori hai. fir ap ke bahumooly jivan ke lie ek niraparadh vyakti mara bhi jay to is mein khed ki kya bat hai. usaka itana aparadh hai hi ki sabhi log use shatru ka bhediya kahate hain. mujhe usase n irshya hai n shatruta. maim jo kuchh kahata hoon ap hi ke bhale ke lie kahata hoom. mujhe isase kuchh lena-dena nahin ki vah achchha hai ya bura, maim to keval ap ki dirghayu chahata ham. agar meri bat asaty nikale to ap mujhe vaisa hi dand dem jaisa ek raja ne apane vajir ko diya tha. us vajir ko antata: rajajnya se marana hi para tha. badshah ne poochha kis raja ne vajir ko prana-dand diya aur kis bat par diya. mantri ne yah Kahani kahi.

Advertisement