Alif Laila Kahani Shaharyar aur Shaharjad शहरयार और शहरजाद की शादी

Advertisement

अलिफ लैला की कहानी शहरयार और शहरजाद की शादी

एक बड़ा व्यापारी था जिसके गाँव में बहुत-से घर और कारखाने थे जिनमें तरह-तरह के पशु रहते थे। एक दिन वह अपने परिवार सहित कारखानों को देखने के लिए गाँव गया। उसने अपनी पशुशाला भी देखी जहाँ एक गधा और एक बैल बँधे हुए थे। उसने देखा कि वे दोनों आपस में वार्तालाप कर रहे हैं। वह व्यापारी पशु-पक्षियों की बोली समझता था। वह चुपचाप खड़ा होकर दोनों की बातें सुनने लगा।

बैल ने गधे से कहा, ‘तू बड़ा ही भाग्यशाली है, सदैव सुखपूर्वक रहता है। मालिक हमेशा तेरा खयाल रखता है। तेरी रोज मलाई-दलाई होती है, खाने को दोनों समय जौ और पीने के लिए साफ पानी मिलता है। इतने आदर-सत्कार के बाद भी तुझसे केवल यह काम लिया जाता है कि कभी काम पड़ने पर मालिक तेरी पीठ पर बैठ कर कुछ दूर चला जाता है। तुझे दाने-घास की कभी कमी नहीं होती।

Advertisement

‘और तू जितना भाग्यवान है मैं उतना ही अभागा हूँ। मैं सवेरा होते ही पीठ पर हल लादकर जाता हूँ। वहाँ दिन भर मुझे हल में जोतकर चलाते हैं। हलवाहा मुझ पर बराबर चाबुक चलाता रहता है। उसके चाबुकों की मार से पीठ और जुए से मेरे कंधे छिल गए हैं। सुबह से शाम तक ऐसा कठिन काम लेने के बाद भी ये लोग मेरे आगे सूखा और सड़ा भूसा डालते हैं जो मुझसे खाया नहीं जाता। रात भर मैं भूखा-प्यासा अपने गोबर और मूत्र में पड़ा रहता हूँ और तेरी सुख-सुविधा पर ईर्ष्या किया करता हूँ।’

Advertisement

गधे ने यह सुनकर कहा, ‘ऐ भाई, जो कुछ तू कहता है सब सच है, सचमुच तुझे बड़ा कष्ट है। किंतु जान पड़ता है तू इसी में प्रसन्न है, तू स्वयं ही सुख से रहना नहीं चाहता। तू यदि मेहनत करते-करते मर जाए तो भी ये लोग तेरी दशा पर तरस नहीं खाएँगे। अतएव तू एक काम कर, फिर वे तुझ से इतनी मेहनत नहीं लिया करेंगे और तू सूख से रहेगा।’

Advertisement
youtube shorts kya hai

अलिफ़ लैला की अन्य कहानियाँ भी पढ़ें:

बैल ने पूछा कि ऐसा कौन-सा उपाय हो सकता है। गधे ने कहा, ‘तू अपने को रोगी दिखा। एक शाम का दाना-भूसा न खा और अपने स्थान पर चुपचाप लेट जा।’ बैल को यह सुझाव बड़ा अच्छा लगा। उसने गधे की बात सुनकर कहा, ‘मैं ऐसा ही करूँगा। तूने मुझे बड़ा अच्छा उपाय बताया है। भगवान तुझे प्रसन्न रखें।’

Advertisement

दूसरे दिन प्रातःकाल हलवाहा जब पशुशाला में यह सोचकर गया कि रोज की तरह बैल को खेत जोतने के लिए ले जाए तो उसने देखा कि रात की लगाई सानी ज्यों की त्यों रखी है और बैल धरती पर पड़ा हाँफ रहा है, उसकी आँखें बंद हैं और उसका पेट फूला हुआ है। हलवाहे ने समझा कि बैल बीमार हो गया है और यह सोचकर उसे हल में न जोता। उसने व्यापारी को बैल के बीमारी की सूचना दी।

व्यापारी यह सुनकर जान गया कि बैल ने गधे की शिक्षा पर कार्य कर के स्वयं को रोगी दिखाया है अतएव उसने हलवाहे से कहा कि आज गधे को हल में जोत दो। इसलिए हलवाहे ने गधे को हल में जोत कर उससे सारे दिन काम लिया। गधे को खेत जोतने का अभ्यास नहीं था। वह बहुत थक गया और उसके हाथ-पाँव ठंडे होने लगे। शारीरिक श्रम के अतिरिक्त सारे दिन उस पर इतनी मार पड़ी थी कि संध्या को घर लौटते समय उसके पाँव भी ठीक से नहीं पड़ रहे थे।

इधर बैल दिन भर बड़े आराम से रहा। वह नाँद की सारी सानी खा गया और गधे को दुआएँ देता रहा। जब गधा गिरता-पड़ता खेत से आया तो बैल ने कहा कि भाई, तुम्हारे उपदेश के कारण मुझे बड़ा सुख मिला। गधा थकान के कारण उत्तर न दे सका और आकर अपने स्थान पर गिर पड़ा। यह मन ही मन अपने को धिक्कारने लगा कि अभागे, तूने बैल को आराम पहुँचाने के लिए अपनी सुख-सुविधा का विनाश कर दिया।

मंत्री ने इतनी कथा कर कहा, ‘बेटी, तू इस समय बड़ी सुख-सुविधा में रहती है। तू क्यों चाहती है कि गधे के समान स्वयं को कष्ट में डाले?’ शहरजाद अपने पिता की बात सुनकर बोली, ‘इस कहानी से मैं अपनी जिद नहीं छोड़ती। जब तक आप बादशाह से मेरा विवाह नहीं करेंगे मैं इसी तरह आपके पीछे पड़ी रहूँगी।’ मंत्री बोला, ‘अगर तू जिद पर अड़ी रही तो मैं तुझे वैसा ही दंड दूँगा जो व्यापारी ने अपनी स्त्री को दिया था।’ शहरजाद ने पूछा, ‘व्यापारी ने क्यों स्त्री को दंड दिया और गधे और बैल का क्या हुआ?’

मंत्री ने कहा, ‘दूसरे दिन व्यापारी रात्रि भोजन के पश्चात अपनी पत्नी के साथ पशुशाला में जा बैठा और पशुओं की बातें सुनने लगा। गधे ने बैल से पूछा, ‘सुबह हलवाहा तुम्हारे लिए दाना-घास लाएगा तो तुम क्या करोगे?’ ‘जैसा तुमने कहा है वैसा ही करूँगा,’ बैल ने कहा। गधे ने कहा, ‘नहीं, ऐसा न करना, वरना जान से जाओगे। शाम को लौटते समय मैंने सुना कि हमारा स्वामी अपने रसोइए से कह रहा था कि कल कसाई और चमार को बुला लाना और बैल, जो बीमार हो गया है, का मांस और खाल बेच डालना। मैंने जो सुना था वह मित्रता के नाते तुझे बता दिया। अब तेरी इसी में भलाई है कि सुबह जब तेरे आगे चारा डाला जाए तो तू उसे जल्दी से उठकर खा ले और स्वस्थ बन जा। फिर हमारा स्वामी तुझे स्वस्थ देखकर तुझे मारने का इरादा छोड़ देगा।’ यह बात सुन कर बैल भयभीत होकर बोला, ‘भाई, ईश्वर तुझे सदा सुखी रखे। तेरे कारण मेरे प्राण बच गए। अब मैं वही करूँगा जैसा तूने कहा है।

व्यापारी यह बात सुनकर ठहाका लगा कर हँस पड़ा। उसकी स्त्री को इस बात से बड़ा आश्चर्य हुआ। वह पूछने लगी, ‘तुम अकारण ही क्यों हँस पड़े?’ व्यापारी ने कहा कि यह बात बताने की नहीं है, मैं सिर्फ यह कह सकता हूँ कि मैं बैल और गधे की बातें सुन कर हँसा हूँ। स्त्री ने कहा, ‘मुझे भी वह विद्या सिखाओ जिससे पशुओं की बोली समझ लेते हैं।’ व्यापारी ने इससे इनकार कर दिया। स्त्री बोली, ‘आखिर तुम मुझे यह क्यों नहीं सिखाते?’ व्यापारी बोला, ‘अगर मैंने तुझे यह विद्या सिखाई तो मैं जीवित नहीं रहूँगा।’ स्त्री ने कहा, ‘तुम मुझे धोखा दे रहे हो। क्या वह आदमी जिसने तुझे यह सिखाया था, सिखाने के बाद मर गया? तुम कैसे मर जाओगे? तुम झूठ बोलते हो। कुछ भी हो मैं तुम से यह विद्या सीख कर ही रहूँगी। अगर तुम मुझे नहीं सिखाओगे तो मैं प्राण तज दूँगी।’

यह कह कर वह स्त्री घर में आ गई और अपनी कोठरी का दरवाजा बंद कर के रात भर चिल्लाती और गाली-गलौज करती रही। व्यापारी रात को तो सो गया लेकिन दूसरे दिन भी वही हाल देखा तो स्त्री को समझाने लगा कि तू बेकार जिद करती है, यह विद्या तेरे सीखने योग्य नहीं है। स्त्री ने कहा कि जब तक तुम मुझे यह भेद नहीं बताओगे, मैं खाना-पीना छोड़े रहूँगी और इसी प्रकार चिल्लाती रहूँगी। व्यापारी ने कहा कि अगर मैं तेरी मूर्खता की बात मान लूँ तो मैं अपनी जान से हाथ धो बैठूँगा। स्त्री ने कहा, ‘मेरी बला से तुम जियो या मरो, लेकिन मैं तुमसे यह सीख कर ही रहूँगी कि पशुओं की बोली कैसे समझी जाती है।’

व्यापारी ने जब देखा कि यह महामूर्ख अपना हठ छोड़ ही नहीं रही है तो उसने अपने और ससुराल के रिश्तेदारों को बुलाया कि वे उस स्त्री को अनुचित हठ छोड़ने के लिए समझाएँ। उन लोगों ने भी उस मूर्ख को हर प्रकार समझाया लेकिन वह अपनी जिद से न हटी। उसे इस बात की बिल्कुल चिंता न थी कि उसका पति मर जाएगा। छोटे बच्चे माँ की यह दशा देखकर हाहाकार करने लगे।

व्यापारी की समझ ही में नहीं आ रहा था कि वह स्त्री को कैसे समझाए कि इस विद्या को सीखने का हठ ठीक नहीं है। वह अजीब दुविधा में था – अगर मैं बताता हूँ तो मेरी जान जाती है और नहीं बताता तो स्त्री रो रो कर मर जाएगी। इसी उधेड़बुन में वह अपने घर के बाहर जा बैठा।

उसने देखा कि उसका कुत्ता उसके मुर्गे को मुर्गियों से भोग करते देख कर गुर्राने लगा। उसने मुर्गे से कहा, ‘तुझे लज्जा नहीं आती कि आज के जैसे दुखदायी दिन भी तू यह काम कर रहा है?’

मुर्गे ने कहा, ‘आज ऐसी क्या बात हो गई है कि मैं आनंद न करूँ?’ कुत्ता बोला, ‘आज हमारा स्वामी अति चिंताकुल है। उसकी स्त्री की मति मारी गई है और वह उससे ऐसे भेद को पूछ रही है जिसे बताने से वह तुरंत ही मर जाएगा। नहीं बताएगा तो स्त्री रो-रो कर मर जाएगी। इसी से सारे लोग दुखी हैं और तेरे अतिरिक्त कोई ऐसा नहीं है जो स्त्री संभोग की भी बात भी सोचे।’

मुर्गा बोला, ‘हमारा स्वामी मूर्ख है जो एक स्त्री का पति है और वह भी उसके अधीन नहीं है। मेरी तो पचास मुर्गियाँ हैं और सब मेरे अधीन हैं। अगर हमारा स्वामी एक काम करे तो उसका दुख अभी दूर हो जाएगा।’

कुत्ते ने पूछा कि स्वामी क्या करे कि उसकी मूर्ख स्त्री की समझ वापस आ जाए। मुर्गे ने कहा, ‘हमारे स्वामी को चाहिए कि एक मजबूत डंडा लेकर उस कोठरी में जाए जहाँ उसकी स्त्री चीख-चिल्ला रही है। दरवाजा अंदर से बंद कर ले और स्त्री की जम कर पिटाई करे। कुछ देर में स्त्री अपना हठ छोड़ देगी।’

मुर्गे की बात सुनकर व्यापारी ने उठकर एक मोटा डंडा लिया और उस कोठरी में गया जहाँ उसकी पत्नी चीख-चिल्ला रही थी। दरवाजा अंदर से बंद कर के व्यापारी ने स्त्री पर डंडे बरसाने शुरू कर दिए। कुछ देर चीख-पुकार बढ़ाने पर भी जब स्त्री ने देखा कि डंडे पड़ते ही जा रहे हैं तो वह घबरा उठी। वह पति के पैरों पर गिर कर कहने लगी कि अब हाथ रोक ले, अब मैं कभी ऐसी जिद नही करूँगी। इस पर व्यापारी ने हाथ रोक लिया।

यह कहानी सुनाकर मंत्री ने शहरजाद से कहा कि अगर तुमने अपना हठ न छोड़ा तो मैं तुम्हें ऐसा ही दंड दूँगा जैसा व्यापारी ने अपनी स्त्री को दिया था। शहरजाद ने कहा ‘आप की बातें अपनी जगह ठीक हैं किंतु मैं किसी भी प्रकार अपना मंतव्य बदलना नहीं चाहती। अपनी इच्छा का औचित्य सिद्ध करने के लिए मुझे भी कई ऐतिहासिक घटनाएँ और कथाएँ मालूम हैं लेकिन उन्हें कहना बेकार है। यदि आप मेरी कामना पूरी न करेंगे तो मैं आप से पूछे बगैर स्वयं ही बादशाह की सेवा में पहुँच जाऊँगी।’

अब मंत्री विवश हो गया। उसे शहरजाद की बात माननी पड़ी। वह बादशाह के पास पहुँचा और अत्यंत शोक-संतप्त स्वर में निवेदन करने लगा, ‘मेरी पुत्री आपके साथ विवाह सूत्र में बँधना चाहती है।’ बादशाह को इस बात पर बड़ा आश्चर्य हुआ। उसने कहा, ‘तुम सब कुछ जानते हो फिर भी तुमने अपनी पुत्री के लिए ऐसा भयानक निर्णय क्यों लिया?’ मंत्री ने कहा, ‘लड़की ने खुद ही मुझ पर इस बात के लिए जोर दिया है। उसकी खुशी इसी बात में हैं कि वह एक रात के लिए आप की दुल्हन बने और सुबह मृत्यु के मुख में चली जाए।’ बादशाह का आश्चर्य इस बात से और बढ़ा। वह बोला, ‘तुम इस धोखे में न रहना कि तुम्हारा खयाल कर के मैं अपनी प्रतिज्ञा छोड़ दूँगा। सवेरा होते ही मैं तुम्हारे ही हाथों तुम्हारी बेटी को सौंपूँगा कि उसका वध करवाओ। यह भी याद रखना कि यदि तुमने संतान प्रेम के कारण उसके वध में विलंब किया तो मैं उसके वध के साथ तेरे वध की भी आज्ञा दूँगा।’

मंत्री ने निवेदन किया, ‘मैं आपका चरण सेवक हूँ। यह सही है कि वह मेरी बेटी है और उसकी मृत्यु से मुझे बहुत ही दुख होगा। लेकिन मैं आपकी आज्ञा का पालन करूँगा।’ बादशाह ने मंत्री की बात सुनकर कहा, ‘यह बात है तो इस कार्य में विलंब क्यों किया जाए। तुम आज ही रात को अपनी बेटी को लाकर उसका विवाह मुझ से कर दो।’

मंत्री बादशाह से विदा लेकर अपने घर आया और शहरजाद को सारी बात बताई। शहरजाद यह सुनकर बहुत प्रसन्न हुई और अपने शोकाकुल पिता के प्रति कृतज्ञता प्रकट कर के कहने लगी, ‘आप मेरा विवाह कर के कोई पश्चात्ताप न करें। भगवान चाहेगा तो इस मंगल कार्य से आप जीवन पर्यंत हर्षित रहेंगे।’

फिर शहरजाद ने अपनी छोटी बहन दुनियाजाद को एकांत में ले जाकर उससे कहा, ‘मैं तुमसे एक बात में सहायता चाहती हूँ। आशा है तुम इससे इनकार न करोगी। मुझे बादशाह से ब्याहने के लिए ले जाएँगे। तुम इस बात से शोक-विह्वल न होना बल्कि मैं जैसा कहूँ वैसा करना। मैं तुम्हें विवाह की रात पास में सुलाऊँगी और बादशाह से कहूँगी कि तुम्हें मेरे पास आने दे ताकि मैं मरने के पहले तुम्हें धैर्य बँधा सकूँ। मैं कहानी कहने लगूँगी। मुझे विश्वास है कि इस उपाय से मेरी जान बच जाएगी।’ दुनियाजाद ने कहा, ‘तुम जैसा कहती हो वैसा ही करूँगी।’

शाम को मंत्री शहरजाद को लेकर राजमहल में गया। उसने धर्मानुसार पुत्री का विवाह बादशाह के साथ करवाया और पुत्री को महल में छोड़कर घर आ गया। एकांत में बादशाह ने शहरजाद से कहा, ‘अपने मुँह का नकाब हटाओ।’ नकाब उठने पर उसके अप्रतिम सौंदर्य से बादशाह स्तंभित-सा रह गया। लेकिन उसकी आँखों मे आँसू देख कर पूछने लगा कि तू रो क्यों रही है। शहरजाद बोली, ‘मेरी एक छोटी बहन है जो मुझे बहुत प्यार करती है और मैं भी उसे बहुत प्यार करती हूँ। मैं चाहती हूँ कि आज वह भी यहाँ रहे ताकि सूर्योदय होने पर हम दोनों बहनें अंतिम बार गले मिल लें। यदि आप अनुमति दें तो वह भी पास के कमरे में सो रहे।’ बादशाह ने कहा, ‘क्या हर्ज है, उसे बुलवा लो और पास के कमरे में क्यों, इसी कमरे में दूसरी तरफ सुला लो।’

चुनांचे दुनियाजाद को भी महल में बुला लिया गया। शहरयार शहरजाद के साथ ऊँचे शाही पलँग पर सोया और दुनियाजाद पास ही दूसरे छोटे पलँग पर लेट रही। जब एक घड़ी रात रह गई तो दुनियाजाद ने शहरजाद को जगाया और बोली, ‘बहन, मैं तो तुम्हारे जीवन की चिंता से रात भर न सो सकी। मेरा चित्त बड़ा व्याकुल है। तुम्हें बहुत नींद न आ रही हो और कोई अच्छी-सी कहानी इस समय तुम्हें याद हो तो सुनाओ ताकि मेरा जी बहले।’ शहरजाद ने बादशाह से कहा कि यदि आपकी अनुमति हो तो मैं जीवन के अंतिम क्षणों में अपनी प्रिय बहन की इच्छा पूरी कर लूँ। बादशाह ने अनुमति दे दी।

अलिफ लैला की 64 कहानियों का संकलन

Alif laila ki kahani shaharayar aur shaharajad ki shadi

ek bara vyapari tha jisake gamv mein bahuta-se ghar aur karakhane the jinamein taraha-tarah ke pashu rahate the. ek din vah apane parivar sahit karakhanon ko dekhane ke lie gamv gaya. usane apani pashushala bhi dekhi jahan ek gadha aur ek bail bamdhe hue the. usane dekha ki ve donon apas mein vartalap kar rahe hain. vah vyapari pashu-pakshiyon ki boli samajhata tha. vah chupachap khara hokar donon ki batem sunane laga.

bail ne gadhe se kaha, too bara hi bhagyashali hai, sadaiv sukhapoorvak rahata hai. malik hamesha tera khayal rakhata hai. teri roj malai-dalai hoti hai, khane ko donon samay jau aur pine ke lie saf pani milata hai. itane adara-satkar ke bad bhi tujhase keval yah kam liya jata hai ki kabhi kam parane par malik teri pith par baith kar kuchh door chala jata hai. tujhe dane-ghas ki kabhi kami nahin hoti.

aur too jitana bhagyavan hai maim utana hi abhaga hoom. maim savera hote hi pith par hal ladakar jata hoom. vaham din bhar mujhe hal mein jotakar chalate hain. halavaha mujh par barabar chabuk chalata rahata hai. usake chabukon ki mar se pith aur jue se mere kandhe chhil gae hain. subah se sham tak aisa kathin kam lene ke bad bhi ye log mere age sookha aur sara bhoosa dalate hain jo mujhase khaya nahin jata. rat bhar maim bhookha-pyasa apane gobar aur mootr mein para rahata hoon aur teri sukha-suvidha par irshya kiya karata hoom.

gadhe ne yah sunakar kaha, ai bhai, jo kuchh too kahata hai sab sach hai, sachamuch tujhe bara kasht hai. kintu jan parata hai too isi mein prasann hai, too svayam hi sukh se rahana nahin chahata. too yadi mehanat karate-karate mar jae to bhi ye log teri dasha par taras nahin khaemge. ataev too ek kam kar, fir ve tujh se itani mehanat nahin liya karenge aur too sookh se rahega.

Alif laila ki any Kahaniyam bhi parhem:

bail ne poochha ki aisa kauna-sa upay ho sakata hai. gadhe ne kaha, too apane ko rogi dikha. ek sham ka dana-bhoosa n kha aur apane sthan par chupachap let ja. bail ko yah sujhav bara achchha laga. usane gadhe ki bat sunakar kaha, maim aisa hi karoomga. toone mujhe bara achchha upay bataya hai. bhagavan tujhe prasann rakhem.

doosare din pratahkal halavaha jab pashushala mein yah sochakar gaya ki roj ki tarah bail ko khet jotane ke lie le jae to usane dekha ki rat ki lagai sani jyon ki tyon rakhi hai aur bail dharati par para hamf raha hai, usaki amkhem band hain aur usaka pet foola hua hai. halavahe ne samajha ki bail bimar ho gaya hai aur yah sochakar use hal mein n jota. usane vyapari ko bail ke bimari ki soochana di.

vyapari yah sunakar jan gaya ki bail ne gadhe ki shiksha par kary kar ke svayam ko rogi dikhaya hai ataev usane halavahe se kaha ki aj gadhe ko hal mein jot do. isalie halavahe ne gadhe ko hal mein jot kar usase sare din kam liya. gadhe ko khet jotane ka abhyas nahin tha. vah bahut thak gaya aur usake hatha-pamv thande hone lage. sharirik shram ke atirikt sare din us par itani mar pari thi ki sandhya ko ghar lautate samay usake pamv bhi thik se nahin par rahe the.

idhar bail din bhar bare aram se raha. vah namd ki sari sani kha gaya aur gadhe ko duaem deta raha. jab gadha girata-parata khet se aya to bail ne kaha ki bhai, tumhare upadesh ke karan mujhe bara sukh mila. gadha thakan ke karan uttar n de saka aur akar apane sthan par gir para. yah man hi man apane ko dhikkarane laga ki abhage, toone bail ko aram pahumchane ke lie apani sukha-suvidha ka vinash kar diya.

mantri ne itani katha kar kaha, beti, too is samay bari sukha-suvidha mein rahati hai. too kyon chahati hai ki gadhe ke saman svayam ko kasht mein dale? shaharajad apane pita ki bat sunakar boli, is Kahani se maim apani jid nahin chhorati. jab tak ap badshah se mera vivah nahin karenge maim isi tarah apake pichhe pari rahoomgi. mantri bola, agar too jid par ari rahi to maim tujhe vaisa hi dand doomga jo vyapari ne apani stri ko diya tha. shaharajad ne poochha, vyapari ne kyon stri ko dand diya aur gadhe aur bail ka kya hua?

mantri ne kaha, doosare din vyapari ratri bhojan ke pashchat apani patni ke sath pashushala mein ja baitha aur pashuon ki batem sunane laga. gadhe ne bail se poochha, subah halavaha tumhare lie dana-ghas laega to tum kya karoge? jaisa tumane kaha hai vaisa hi karoomga, bail ne kaha. gadhe ne kaha, nahin, aisa n karana, varana jan se jaoge. sham ko lautate samay maimne suna ki hamara svami apane rasoie se kah raha tha ki kal kasai aur chamar ko bula lana aur bail, jo bimar ho gaya hai, ka mams aur khal bech dalana. maimne jo suna tha vah mitrata ke nate tujhe bata diya. ab teri isi mein bhalai hai ki subah jab tere age chara dala jae to too use jaldi se uthakar kha le aur svasth ban ja. fir hamara svami tujhe svasth dekhakar tujhe marane ka irada chhor dega. yah bat sun kar bail bhayabhit hokar bola, bhai, ishvar tujhe sada sukhi rakhe. tere karan mere pran bach gae. ab maim vahi karoomga jaisa toone kaha hai.

vyapari yah bat sunakar thahaka laga kar hams para. usaki stri ko is bat se bara ashchary hua. vah poochhane lagi, tum akaran hi kyon hams pare? vyapari ne kaha ki yah bat batane ki nahin hai, maim sirf yah kah sakata hoon ki maim bail aur gadhe ki batem sun kar hamsa hoom. stri ne kaha, mujhe bhi vah vidya sikhao jisase pashuon ki boli samajh lete hain. vyapari ne isase inakar kar diya. stri boli, akhir tum mujhe yah kyon nahin sikhate? vyapari bola, agar maimne tujhe yah vidya sikhai to maim jivit nahin rahoomga. stri ne kaha, tum mujhe dhokha de rahe ho. kya vah adami jisane tujhe yah sikhaya tha, sikhane ke bad mar gaya? tum kaise mar jaoge? tum jhooth bolate ho. kuchh bhi ho maim tum se yah vidya sikh kar hi rahoomgi. agar tum mujhe nahin sikhaoge to maim pran taj doomgi.

yah kah kar vah stri ghar mein a gai aur apani kothari ka daravaja band kar ke rat bhar chillati aur gali-galauj karati rahi. vyapari rat ko to so gaya lekin doosare din bhi vahi hal dekha to stri ko samajhane laga ki too bekar jid karati hai, yah vidya tere sikhane yogy nahin hai. stri ne kaha ki jab tak tum mujhe yah bhed nahin bataoge, maim khana-pina chhore rahoomgi aur isi prakar chillati rahoomgi. vyapari ne kaha ki agar maim teri moorkhata ki bat man loon to maim apani jan se hath dho baithoomga. stri ne kaha, meri bala se tum jiyo ya maro, lekin maim tumase yah sikh kar hi rahoomgi ki pashuon ki boli kaise samajhi jati hai.

vyapari ne jab dekha ki yah mahamoorkh apana hath chhor hi nahin rahi hai to usane apane aur sasural ke rishtedaron ko bulaya ki ve us stri ko anuchit hath chhorane ke lie samajhaem. un logon ne bhi us moorkh ko har prakar samajhaya lekin vah apani jid se n hati. use is bat ki bilkul chinta n thi ki usaka pati mar jaega. chhote bachche mam ki yah dasha dekhakar hahakar karane lage.

vyapari ki samajh hi mein nahin a raha tha ki vah stri ko kaise samajhae ki is vidya ko sikhane ka hath thik nahin hai. vah ajib duvidha mein tha – agar maim batata hoon to meri jan jati hai aur nahin batata to stri ro ro kar mar jaegi. isi udherabun mein vah apane ghar ke bahar ja baitha.

usane dekha ki usaka kutta usake murge ko murgiyon se bhog karate dekh kar gurrane laga. usane murge se kaha, tujhe lajja nahin ati ki aj ke jaise dukhadayi din bhi too yah kam kar raha hai?

murge ne kaha, aj aisi kya bat ho gai hai ki maim anand n karoom? kutta bola, aj hamara svami ati chintakul hai. usaki stri ki mati mari gai hai aur vah usase aise bhed ko poochh rahi hai jise batane se vah turant hi mar jaega. nahin bataega to stri ro-ro kar mar jaegi. isi se sare log dukhi hain aur tere atirikt koi aisa nahin hai jo stri sambhog ki bhi bat bhi soche.

murga bola, hamara svami moorkh hai jo ek stri ka pati hai aur vah bhi usake adhin nahin hai. meri to pachas murgiyam hain aur sab mere adhin hain. agar hamara svami ek kam kare to usaka dukh abhi door ho jaega.

kutte ne poochha ki svami kya kare ki usaki moorkh stri ki samajh vapas a jae. murge ne kaha, hamare svami ko chahie ki ek majaboot danda lekar us kothari mein jae jahan usaki stri chikha-chilla rahi hai. daravaja andar se band kar le aur stri ki jam kar pitai kare. kuchh der mein stri apana hath chhor degi.

murge ki bat sunakar vyapari ne uthakar ek mota danda liya aur us kothari mein gaya jahan usaki patni chikha-chilla rahi thi. daravaja andar se band kar ke vyapari ne stri par dande barasane shuroo kar die. kuchh der chikha-pukar barhane par bhi jab stri ne dekha ki dande parate hi ja rahe hain to vah ghabara uthi. vah pati ke pairon par gir kar kahane lagi ki ab hath rok le, ab maim kabhi aisi jid nahi karoomgi. is par vyapari ne hath rok liya.

yah Kahani sunakar mantri ne shaharajad se kaha ki agar tumane apana hath n chhora to maim tumhem aisa hi dand doomga jaisa vyapari ne apani stri ko diya tha. shaharajad ne kaha ap ki batem apani jagah thik hain kintu maim kisi bhi prakar apana mantavy badalana nahin chahati. apani ichchha ka auchity siddh karane ke lie mujhe bhi kai aitihasik ghatanaem aur kathaem maloon hain lekin unhem kahana bekar hai. yadi ap meri kamana poori n karenge to maim ap se poochhe bagair svayam hi badshah ki seva mein pahumch jaoomgi.

ab mantri vivash ho gaya. use shaharajad ki bat manani pari. vah badshah ke pas pahumcha aur atyant shoka-santapt svar mein nivedan karane laga, meri putri apake sath vivah sootr mein bamdhana chahati hai. badshah ko is bat par bara ashchary hua. usane kaha, tum sab kuchh janate ho fir bhi tumane apani putri ke lie aisa bhayanak nirnay kyon liya? mantri ne kaha, laraki ne khud hi mujh par is bat ke lie jor diya hai. usaki khushi isi bat mein hain ki vah ek rat ke lie ap ki dulhan bane aur subah mrityu ke mukh mein chali jae. badshah ka ashchary is bat se aur barha. vah bola, tum is dhokhe mein n rahana ki tumhara khayal kar ke maim apani pratijnya chhor doomga. savera hote hi maim tumhare hi hathon tumhari beti ko saumpoomga ki usaka vadh karavao. yah bhi yad rakhana ki yadi tumane santan prem ke karan usake vadh mein vilamb kiya to maim usake vadh ke sath tere vadh ki bhi ajnya doomga.

mantri ne nivedan kiya, maim apaka charan sevak hoom. yah sahi hai ki vah meri beti hai aur usaki mrityu se mujhe bahut hi dukh hoga. lekin maim apaki ajnya ka palan karoomga. badshah ne mantri ki bat sunakar kaha, yah bat hai to is kary mein vilamb kyon kiya jae. tum aj hi rat ko apani beti ko lakar usaka vivah mujh se kar do.

mantri badshah se vida lekar apane ghar aya aur shaharajad ko sari bat batai. shaharajad yah sunakar bahut prasann hui aur apane shokakul pita ke prati kritajnyata prakat kar ke kahane lagi, ap mera vivah kar ke koi pashchattap n karem. bhagavan chahega to is mangal kary se ap jivan paryant harshit rahenge.

fir shaharajad ne apani chhoti bahan duniyajad ko ekant mein le jakar usase kaha, maim tumase ek bat mein sahayata chahati hoom. asha hai tum isase inakar n karogi. mujhe badshah se byahane ke lie le jaemge. tum is bat se shoka-vihval n hona balki maim jaisa kahoon vaisa karana. maim tumhem vivah ki rat pas mein sulaoomgi aur badshah se kahoomgi ki tumhem mere pas ane de taki maim marane ke pahale tumhem dhairy bamdha sakoom. maim Kahani kahane lagoomgi. mujhe vishvas hai ki is upay se meri jan bach jaegi. duniyajad ne kaha, tum jaisa kahati ho vaisa hi karoomgi.

sham ko mantri shaharajad ko lekar rajamahal mein gaya. usane dharmanusar putri ka vivah badshah ke sath karavaya aur putri ko mahal mein chhorakar ghar a gaya. ekant mein badshah ne shaharajad se kaha, apane mumh ka nakab hatao. nakab uthane par usake apratim saundary se badshah stambhita-sa rah gaya. lekin usaki amkhon me amsoo dekh kar poochhane laga ki too ro kyon rahi hai. shaharajad boli, meri ek chhoti bahan hai jo mujhe bahut pyar karati hai aur maim bhi use bahut pyar karati hoom. maim chahati hoon ki aj vah bhi yahan rahe taki sooryoday hone par ham donon bahanem antim bar gale mil lem. yadi ap anumati dem to vah bhi pas ke kamare mein so rahe. badshah ne kaha, kya harj hai, use bulava lo aur pas ke kamare mein kyom, isi kamare mein doosari taraf sula lo.

chunanche duniyajad ko bhi mahal mein bula liya gaya. shaharayar shaharajad ke sath oomche shahi palamg par soya aur duniyajad pas hi doosare chhote palamg par let rahi. jab ek ghari rat rah gai to duniyajad ne shaharajad ko jagaya aur boli, bahan, maim to tumhare jivan ki chinta se rat bhar n so saki. mera chitt bara vyakul hai. tumhem bahut nind n a rahi ho aur koi achchhi-si Kahani is samay tumhem yad ho to sunao taki mera ji bahale. shaharajad ne badshah se kaha ki yadi apaki anumati ho to maim jivan ke antim kshanon mein apani priy bahan ki ichchha poori kar loom. badshah ne anumati de di.

Advertisement