गौरव में कौन सा प्रत्यय है? gaurav mein Pratyay aur mool shabd

Advertisement

गौरव शब्द में प्रत्यय और मूल शब्द

गौरव शब्द में प्रत्यय बताइये।

गुरु + अ = गौरव
अतः ‘गौरव’ में ‘अ’ प्रत्यय और ‘गुरु’ मूल शब्द है।

gaurav shabd mein kaun sa pratyay aur mool shabd hai?

gaurav mein Pratyay hai – अ aur mool shabd hai – गुरु

Advertisement

गौरव का वाक्य प्रयोग

आल्हा और उदल की रचनाओं में राजपूत राजाओं का गौरव गान मिलता है।
वैज्ञानिकों ने इस अविष्कार से देश का गौरव बढ़ाया है।

यहाँ पर मूल शब्द ‘गुरु’ एक विशेषण है जिसमें तद्धित प्रत्यय (संस्कृत) ‘अ’ जुडने से बना शब्द ‘गौरव’ तद्धितान्त (भाववाचक संज्ञा) शब्द कहा जाएगा।

प्रत्यय वे शब्द होते हैं दूसरे शब्द के अंत में जुड़ कर उस शब्द के अर्थ में अपने अनुरूप परिवर्तन उत्पन्न कर देते हैं और अर्थ भी बदल देते हैं।

Advertisement

प्रत्यय के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए विद्यार्थी इस लेख को पढ़ें:

प्रत्यय की परिभाषा, भेद और उदाहरण

गौरव शब्द में प्रत्यय को लेकर विभिन्न परीक्षाओं में अनेक प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं जैसे – गौरव शब्द में कौन सा प्रत्यय है? गौरव में प्रत्यय और मूल शब्द लिखिए गौरव में मूल शब्द क्या है? गौरव शब्द में प्रयुक्त मूल शब्द लिखिए gaurav mein kaun sa pratyay hai?, उपसर्ग और प्रत्यय में अंतर बताइये आदि
Pratyay in Hindi for class 5 CBSE

Pratyay in Hindi for class 6 CBSE
Pratyay in Hindi for class 7 CBSE
Pratyay in Hindi for class 8 CBSE
Pratyay in Hindi for class 9 CBSE
Pratyay in Hindi for class 10 CBSE

यह भी पढ़ें –

उपसर्ग की परिभाषा, भेद उदाहरण

परीक्षाओं में अक्सर पूछे जाने वाले 10 IMPORTANT प्रत्यय के शब्द

Advertisement