Advertisement

Hindi mein chunav par do doston ke beech baatchit- Samvad Lekhan

जुगनू : मित्र, आजकल ख़बरों में राजनीति का बाजार बहुत गरमा रहा है ।

सुभाष : गर्माएगा क्यों नहीं ? चुनाव जो होने वाले हैं ।

जुगनू : हर बार की तरह इस बार भी चुनाव होंगे, लोग अपनी पसंदीदा पार्टी के प्रत्याशी को वोट देंगे और फिर भी परेशान होंगे ।

सुभाष : परेशान होने वाले बात तो है ही मित्र । चुनाव से पहले नेता वादे तो बहुत बड़े-बड़े करते हैं, पर होता क्या है ?

Advertisement

जुगनू : हाँ, जनता का तो कुछ नहीं होता पर नेताओं की तो पीढियाँ संवर जाती हैं ।

सुभाष : भले ही सारे नेता एक जैसे नहीं होते पर जहाँ गलत प्रत्याशी हो वहाँ भी जनता भावनाओं में बह कर पार्टी पर जाती है ना कि अच्छे प्रत्याशी पर, जो की जनता के लिए कुछ करने की चाह रखते हैं ।

जुगनू : सही बात है । चुनाव के समय ही यदि हम सही प्रत्याशी चुनें तो बाद में शिकायत का मौका ही ना मिले ।

सुभाष : कई बार तो पढ़े-लिखे लोग भी डर से, कुछ लालच में या कुछ लोग किसी प्रकार के दबाव में आकर चुनाव में गलत प्रत्याशी को वोट डालते हैं और इसका खामियाजा पूरी जनता को भुगतना पड़ता है ।

जुगनू : इसलिए मित्र चुनाव के दिन याद रखना पार्टी नहीं प्रत्याशी चुनना है जो जनता की समस्याओं का समाधान कर सके ।

यह संवाद लेखन विद्यार्थियों के लिए निम्न विषयों पर उपयोगी होगा – Samvad Lekhan, samvad lekhan meaning, samvad lekhan in hindi for class 8, samvad lekhan meaning in english, samvad lekhan in hindi for class 7, samvad lekhan format class 9, samvad lekhan marathi, shunya kachra samvad lekhan, 5 samvad lekhan, samvad lekhan in hindi for class 6, samvad lekhan in hindi for class 5, samvad lekhan in hindi for class 10

Advertisement

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here