कबीरा ते नर अँध है, गुरु को कहते और कबीर के दोहे Kabir ke dohe in Hindi

कबीर के दोहे Kabir ke dohe in Hindi

कबीरा ते नर अँध है, गुरु को कहते और ।
हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर ।

भावार्थ: कबीर दास जी कहते हैं कि वे लोग अंधे और मूर्ख हैं जो गुरु की महिमा को नहीं समझ पाते। अगर ईश्वर आपसे रूठ गया तो गुरु का सहारा है लेकिन अगर गुरु आपसे रूठ गया तो दुनियां में कहीं आपका सहारा नहीं है।

kabira te nar am dh hai, guru ko kahate aur .
hari root he guru t haur hai, guru root he nahim t haur .

bhaavaarth: kabir daas ji kahate hain ki ve log andhe aur moorkh hain jo guru ki mahima ko nahim samajh paate. agar ishvar aapase root h gaya to guru ka sahaara hai lekin agar guru aapase root h gaya to duniyaam mein kahim aapaka sahaara nahim hai.