Advertisement

मोबाइल और इंटरनेट के बिना जीवन कैसे जियें ? इस पर मित्र को पत्र लिखें for class 9,10,11,12

Mobile aur internet ke bina jiwan kaise jiyen? Is par mitra ko patra likhe विषय पर विभिन्न कक्षाओं के छात्रों के लिए यहाँ पर पत्र लेखन के उदाहरण दिये गए हैं। पत्र लेखन के इन उदाहरणों के आधार पर आप विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में भी पत्र लेखन कर सकते हैं।

Advertisement

मोबाइल और इंटरनेट के बिना जीवन कैसे जियें ? इस पर मित्र को पत्र लिखें।(Class 9-10)

सासनी गेट
आगरा रोड
अलीगढ़

दिनांक –5-6-22

Advertisement

प्रिय मित्र
सुरेश

मैं यहाँ कुशल से हूँ और तुम्हारी कुशलता की कामना करता हूँ। तुम्हें नहीं लगता कि पत्र लिखने की परिपाटी अब समाप्त होती जा रही है। इधर कुछ दिनों से मोबाइल और इंटर नेट ने ऐसी धूम मचाई है कि पत्रों के माध्यम से संवाद स्थापित करना बंद सा हो गया है। मोबाइल का आविष्कार समय की बचत करने अति शीघ्र सूचना देने तथा सगे संबंधियों से बातचीत करने के लिए किया गया था । लेकिन जब से इंटरनेट का आविष्कार हुआ तबसे तो जैसे हम इस पर निर्भर ही हो गए है। यह हमारी आदत में शुमार हो गया है। कोरोना काल में तो शिक्षा विभाग के लिए यह वरदान सिद्ध हुआ है।

Advertisement

पर क्या तुम्हें नहीं लगता कि इसकी अत्यधिक निर्भरता से हमारे पारिवारिक और सामाजिक रिश्तों में दूरियाँ बढ़ती जा रही है। मोबाइल ने हमारी दूरियाँ कम कर दी हैं परेशानियाँ कम कर दी है लेकिन इसकी वजह से हमारी रिश्तों में दूरियाँ आ गई है। इसलिए अब समय आ गया है कि मोबाइल का प्रयोग तभी किया जाय जब आवश्यकता हो । हमे अपनी जरूरतों के लिए मोबाइल पर नहीं बल्कि आत्मीय जनों पर भरोसा करना चाहिए।

जहां तक हो सके खाली समय में ही इसका प्रयोग किया जाए तो बेहतर होगा । आशा है तुम मेरी बात समझ रहे होंगे । घर के सभी बड़ों को मेरा प्रणाम बोलना और छोटों को मेरा स्नेह ।
तुम्हारा मित्र
लोकेश

 मोबाइल और इंटरनेट के बिना जीवन कैसे जियें ? इस पर मित्र को पत्र लिखें (Class 10-12)

सासनी गेट
आगरा रोड
अलीगढ़

Advertisement

दिनांक – 5-6-22

प्रिय मित्र
सुरेश

मैं यहाँ कुशल से हूँ और तुम्हारी कुशलता की कामना करता हूँ। इस पत्र के द्वारा मैं तुम्हें बताना चाहता हूँ कि देश में चार युगों के अंत के बाद अब मोबाइल युग आ चुका है। मोबाइल और इंटरनेट पर हम ऐसे निर्भर हो गए है जैसे इसके बिना जीवन जिया नहीं जा सकता। यह सच है कि मोबाइल इन दिनों हमारी भरपूर मदद कर रहा है लेकिन इसके लिए हम इसे अपने जीवन का आधारमान लें यह सही नहीं है। मोबाइल के पास सभी समस्याओं का समाधान है जैसे मनोरंजन के लिए बातचीत के लिए जिज्ञासा शांत करने के लिए एवं अन्य सुविधाएँ भी मोबाइल हमें प्रदान करता है। कोरोना काल में तो मोबाइल और इंटरनेट ने क्रांतिकारी योगदान दिया । मोबाइल और इंटरनेट नहीं होता तो बच्चों की शिक्षा बहुत प्रभावित होती।

पर इसका अर्थ यह नहीं है कि मोबाइल के बिना जीवन संभव ही नहीं है। माना मोबाइल हमारी जिज्ञासा को शांत करता है लेकिन यह भी तो हो सकता है कि हम अपनी जिज्ञासा को अपने बड़ों के माध्यम से शांत करवाएं । बातचीत के लिए परिजनों को और आत्मीय जनों का साथ लें । मोबाइल पर अत्यधिक निर्भरता हमारी संस्कृति और हमारी परंपरा को खाए जा रहा है। मोबाइल और इंटर नेट हमारी मांग है लेकिन इसे हम अपनी पहचान न बनाए। मोबाइल के बिना जीवन संभव नहीं है यह कहना गलत है क्योंकि मोबाइल से हमारी जरूरते पूरी हो सकती है पर जीवन जीने की मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल सकती।
आशा है अब तुम भी मोबाइल से उचित दूरी बना कर रखोगे।

तुम्हारा मित्र
करण

Patra lekhan in Hindi Class 6
Patra lekhan in Hindi Class 7
Patra lekhan in Hindi Class 8
Patra lekhan in Hindi Class 9
Patra lekhan in Hindi Class 10
Patra lekhan in Hindi Class 11
Patra lekhan in Hindi Class 12

Advertisement

पत्र लेखन के विषय (patra lekhan topics in Hindi), पत्र लेखन प्रारूप Patra Lekhan Formats, औपचारिक पत्र Aupcharik Patra, अनौपचारिक पत्र  Anaupcharik Patra आदि के बारे में विस्तार से जानकारी के लिए यह पोस्ट पढ़ें:

पत्र लेखन PATRA LEKHAN | LETTER WRITING IN HINDI for FULL MARKS

औपचारिक एवं अनौपचारिक पत्र लेखन के 100 से अधिक उदाहरण 

आशा है कि मोबाइल और इंटरनेट के बिना जीवन कैसे जियें ? इस पर मित्र को पत्र लिखें  विषय पर प्रस्तुत पत्र लेखन के उदाहरण आपके लिए उपयोगी सिद्ध होंगे। आप इन पत्रों में थोड़ी बहुत फेर-बदल कर मिलते जुलते विषयों पर पत्र लेखन के प्रश्न हल कर सकते हैं। इस पत्र लेखन से मिलते जुलते निम्न विषयों पर पत्र लेखन का अभ्यास आप कर सकते हैं जिनसे आपको परीक्षा में अच्छे अंक लाने में सहता मिलेगी जैसे – अपने पिताजी के स्थानांतरण पर नये विद्यालय में प्रवेश के लिये प्रार्थना पत्र लिखिए, टीसी के लिए आवेदन पत्र हिंदी में, स्कूल छोड़ने के लिए प्रमाण पत्र, नौकरी में स्थानांतरण हेतु आवेदन पत्र, स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु आवेदन पत्र हिंदी में, कॉलेज छोड़ने के प्रमाण पत्र के लिए आवेदन, १२ वीं के बाद स्थानांतरण प्रमाण पत्र के लिए आवेदन, ट्रांसफर हेतु आवेदन पत्र

कृपया अपने सुझाव हमें अवश्य भेजें।

Advertisement

FAQs

अपने दोस्त को पत्र कैसे लिखे?
मित्र को पत्र लिखते समय उसके लिए सम्बोधन जरूर लिखे जैसे की प्रिय मित्र, प्रिय सखी वगेरा वगेरा। पत्र-लेखन करते समय पैराग्राफ के बीच अंतर रखें। इससे आपके दोस्त को पढ़ने में आसानी होगी। अगर आप किसी परीक्षा के प्रश्न में किसी मित्र को पत्र लिख रहे हैं तो पैराग्राफ के बीच अंतर बहुत जरुरी है।

Hindi Patra Lekhan Topics

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.