गुरतेज सिंह – भारत माँ के सच्चे सपूत के बलिदान की कहानी

Advertisement

गलवान घाटी के बहादुर हीरो गुरतेज सिंह की शहादत की प्रेरक कहानी

(Motivational Story in Hindi – Shaheed Gurtej Singh)

साथियों, यह कहानी है सिर्फ 23 साल साल के भारतीय सेना के उस नौजवान की जिसकी बहादुरी की यह मिसाल आपको उसके बलिदान के आगे सर झुकाने को मजबूर कर देगी और आपके मुंह से अनायास निकल उठेगा – शहीद, तुझे नमन है ! 

Advertisement

15 जून की वह काली रात जब चीन की सेना ने पेट्रोलिंग करने गए भारतीय सैनिकों पर धोखे से हमला कर दिया, तब 23 साल का यह जाबांज लड़का या कहिये कि जाबांज लड़ाका 3rd पंजाब रेजीमेंट की “घातक प्लाटून” का हिस्सा था जो भारत माता के अंदर धोखे से घुस आये चीनी सैनिकों को खदेड़ने गए सैनिकों की सहायता के लिए भेजी गई थी ।

भारतीय सेना के सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार चीनी घुसपैठियों ने गुरतेज पर बुरी तरह मिल कर हमला बोल दिया था लेकिन पंजाब की धरती के इस सच्चे सपूत ने दो  चीनी सैनिकों को तुरंत उठा कर जमीन में पटक मारा और और उनकी मदद करने आये अन्य दो चीनी सिपाहियों ने जब उसे गिराना चाहा तो उसने उन चारो को अकेले ही धकेल कर खाई में गिरा दिया।

Advertisement
youtube shorts kya hai

किन्तु इस प्रयास में शहीद गुरतेज सिंह का भी संतुलन बिगड़ गया और वह भी फिसल गए । गिरते हुए वह एक बड़े पत्थर में जा अटके जिस वजह से वह नीचे खाई में नहीं गिरे । बहुत ज्यादा घाव लगने और सर पर चोटें खाने के बावजूद इस शेर दिल सिपाही ने खुद को सम्भाला, अपनी पगड़ी फिर से बाँधी और फिर से खुद को ऊपर खींच लिया जहाँ उनके साथी संख्या में बहुत ज्यादा चीनी घुसपैठियों से संघर्ष कर रहे थे।

उन्होंने अपनी छोटी किरपान निकाली और चीनी घुसपैठियों पर प्रहार शुरू कर दिया जब तक कि उनके हाथ में एक चीनी का हथियार नहीं आ गया। उस हथियार को छीनने के बाद इस खालसा ने बहादुरी का जो विकराल रूप दिखाया उसके सामने चीनी टिक नहीं सके । देखते ही देखते गुरतेज सिंह ने सात शत्रुओं को यमलोक का रास्ता दिखा दिया। उन्हें बहुत से घाव लग चुके थे और इसी बीच एक चीनी ने धोखे से उनकी पीठ में खंजर घोंप दिया। किन्तु माँ भारती  के इस लाल ने मरते मरते भी उस शत्रु को अपनी किरपान से मौत के घाट उतार दिया।

इस तरह अपने वतन की सरहद पर अपनी जान कुर्बान करने वाले इस शहीद ने बहादुरी की अप्रतिम मिसाल पेश की और 12 चीनियों को धूल चटा दी। आखिर में शहीद गुरतेज सिंह ने भारत माँ की गोद में अपना सर रखा और सदा सदा के लिए गहरी नींद में सो गए।

अंतिम क्षणों में शहीद गुरतेज सिंह के होंठों पे यही बोल रहे होंगे –

वतन हमारा रहे खुशहाल और आज़ाद
हमारा क्या है, हम रहे, रहे ना रहे !

जय हिन्द !

galavan ghati ke bahadur hero Guratej Singh kee shahadat kee prerak kahani

(motivational Story in Hindi – Shaheed Gurtej Singh)

sathiyom, yah kahanee hai sirph 23 sal sal ke bharateey sena ke us naujavan kee jisakee bahaduree kee yah misal apako usake balidan ke age sar jhukane ko majaboor kar degee aur apake mumh se anayas nikal ut hega – shaheeda, tujhe naman hai !

15 Junekee vah kalee rat jab cheen kee sena ne pet roling karane gae bharateey sainikom par dhokhe se hamala kar diya, tab 23 sal ka yah jabanj laraka ya kahiye ki jabanj laraka 3rd panjab rejeement kee “ghatak plat oona” ka hissa tha jo bharat mata ke andar dhokhe se ghus aye cheenee sainikom ko khaderane gae sainikom kee sahayata ke lie bhejee gaee thee .

bharateey sena ke sootrom se prapt janakaree ke anusar cheenee ghusapait hiyom ne guratej par buree tarah mil kar hamala bol diya tha lekin panjab kee dharatee ke is sachche sapoot ne do cheenee sainikom ko turant ut ha kar jameen mem pat ak mara aur aur unakee madad karane aye any do cheenee sipahiyom ne jab use girana chaha to usane un charo ko akele hee dhakel kar khaee mem gira diya.

kintu is prayas mem shaheed guratej simh ka bhee santulan bigar gaya aur vah bhee phisal gae . girate hue vah ek bare patthar mem ja at ake jis vajah se vah neeche khaee mem naheem gire . bahut jyada ghav lagane aur sar par chot em khane ke bavajood is sher dil sipahee ne khud ko sambhala, apanee pagaree phir se bam dhee aur phir se khud ko oopar kheench liya jaham unake sathee sankhya mem bahut jyada cheenee ghusapait hiyom se sangharsh kar rahe the.

unhomne apanee chhot ee kirapan nikalee aur cheenee ghusapait hiyom par prahar shuroo kar diya jab tak ki unake hath mem ek cheenee ka hathiyar naheem a gaya. us hathiyar ko chheenane ke bad is khalasa ne bahaduree ka jo vikaral roop dikhaya usake samane cheenee t ik naheem sake . dekhate hee dekhate guratej simh ne sat shatruom ko yamalok ka rasta dikha diya. unhem bahut se ghav lag chuke the aur isee beech ek cheenee ne dhokhe se unakee peet h mem khanjar ghomp diya. kintu mam bharatee ke is lal ne marate marate bhee us shatru ko apanee kirapan se maut ke ghat utar diya.

is tarah apane vatan kee sarahad par apanee jan kurban karane vale is shaheed ne bahaduree kee apratim misal pesh kee aur 12 cheeniyom ko dhool chat a dee. akhir mem shaheed guratej simh ne bharat mam kee god mem apana sar rakha aur sada sada ke lie gaharee neend mem so gae.

antim kshanom mem shaheed guratej simh ke hont hom pe yahee bol rahe honge –

vatan hamara rahe khushahal aur azada
hamara kya hai, ham rahe, rahe na rahe !

jay hind !

Advertisement