NCERT Solutions Class 12 Patang Alok Dhanva Chapter 2 Hindi Aroh

Advertisement

Patang – Alok Dhanva (पतंग – आलोक धन्वा  ) NCERT Solutions Class 12 Patang 

पाठ्यपुस्तक से हल प्रश्न (कविता के साथ)

प्रश्न 1: सबसे तेज बौछारें गयीं, भादो गयाके बाद प्रकृति में जो परिवतन कवि ने दिखाया हैं, उसका वर्णन अपने शब्दों में करें।

Advertisement

अथवा

सबसे तेज बौछारों के साथ भादों के बीत जाने के बाद प्राकृतिक दृश्यों का चित्रण ‘पतग’ कविता के आधार पर अपने शब्दों में कीजिए।

उत्तरइस कविता में कवि ने प्राकृतिक वातावरण का सुंदर वर्णन किया है। भादों माह में तेज वर्षा होती है। इसमें बौछारें पड़ती हैं। बौछारों के समाप्त होने पर शरद का समय आता है। मौसम खुल जाता है। प्रकृति में निम्नलिखित परिवर्तन दिखाई देते हैं-

  1. सवेरे का सूरज खरगोश की आँखों जैसा लाल-लाल दिखाई देता है।
  2. शरद ऋतु के आगमन से उमस समाप्त हो जाती है। ऐसा लगता है कि शरद अपनी साइकिल को तेज गति से चलाता हुआ आ रहा है।
  3. वातावरण साफ़ व धुला हुआ-सा लगता है।
  4. धूप चमकीली होती है।
  5. फूलों पर तितलियाँ मैंडराती दिखाई देती हैं।

प्रश्न 2: सोचकर बताएँ कि पतंग के लिए सबसे हलकी और रंगीन चीज, सबसे पतला कागज, सबसे पतली कमानी जैसे विशेषणों का प्रयोग क्यों किया गया है?

उत्तर कवि ने पतंग के लिए सबसे हलकी और रंगीन चीज, सबसे पतला कागज, सबसे पतली कमानी जैसे विशेषणों का प्रयोग किया है। वह इसके माध्यम से पतंग की विशेषता तथा बाल-सुलभ चेष्टाओं को बताना चाहता है। बच्चे भी हलके होते हैं, उनकी कल्पनाएँ रंगीन होती हैं। वे अत्यंत कोमल व निश्छल मन के होते हैं। इसी तरह पतंगें भी रंगबिरंगी, हल्की होती हैं। वे आकाश में दूर तक जाती हैं। इन विशेषणों के प्रयोग से कवि पाठकों का ध्यान आकर्षित करना चाहता है।

प्रश्न 3: बिंब स्पष्ट करें

 सबसे तेज़ बौछारें गयीं। भादो गया
 सवेरा हुआ
 खरगोश की आखों जैसा लाल सवेरा
 शरद आया पुलों को पार करते हुए
अपनी नई चमकीली साइकिल तेज चलाते हुए

घंटी बजाते हुए जोरजोर से 
चमकीले इशारों से बुलाते हुए
पतग उड़ाने वाले बच्चों के झुड को
चमकील इशारों से बुलाते हुए और
आकाश को इतना मुलायम बनाते हुए
कि पतंग ऊपर उठ सके

उत्तर इस अंश में कवि ने स्थिर व गतिशील आदि दृश्य बिंबों को उकेरा है। इन्हें हम इस तरह से बता सकते हैं-

  • तेज बौछारें – गतिशील दृश्य बिंब।
  • सवेरा हुआ – स्थिर दृश्य बिंब।
  • खरगोश की आँखों जैसा लाल सवेरा – स्थिर दृश्य बिंब।
  • पुलों को पार करते हुए – गतिशील दृश्य बिंब।
  • अपनी नयी चमकीली साइकिल तेज चलाते हुए – गतिशील दृश्य बिंब।
  • घंटी बजाते हुए जोर-जोर से – श्रव्य बिंब।
  • चमकीले इशारों से बुलाते हुए – गतिशील दृश्य बिंब।
  • आकाश को इतना मुलायम बनाते हुए – स्पर्श दृश्य बिंब।
  • पतंग ऊपर उठ सके – गतिशील दृश्य बिंब।

प्रश्न 4: जन्म से ही वे अपने साथ लाते हैं कपासकपास के बारे में सोचें कि कयास से बच्चों का क्या संबंध बन सकता हैं?

उत्तर कपास व बच्चों के मध्य गहरा संबंध है। कपास हलकी, मुलायम, गद्देदार व चोट सहने में सक्षम होती है। कपास की प्रकृति भी निर्मल व निश्छल होती है। इसी तरह बच्चे भी कोमल व निश्छल स्वभाव के होते हैं। उनमें चोट सहने की क्षमता भी होती है। उनका शरीर भी हलका व मुलायम होता है। कपास बच्चों की कोमल भावनाओं व उनकी मासूमियत का प्रतीक है।

प्रश्न 5: पतगों के साथसाथ वे भी उड़ रहे हैंबच्चों का उड़ान से कैसा सबध बनता हैं?

उत्तर पतंग बच्चों की कोमल भावनाओं की परिचायिका है। जब पतंग उड़ती है तो बच्चों का मन भी उड़ता है। पतंग उड़ाते समय बच्चे अत्यधिक उत्साहित होते हैं। पतंग की तरह बालमन भी हिलोरें लेता है। वह भी आसमान की ऊँचाइयों को छूना चाहता है। इस कार्य में बच्चे रास्ते की कठिनाइयों को भी ध्यान में नहीं रखते।

प्रश्न 6: निम्नलिखित पंक्तियों को पढकर प्रश्नों का उत्तर दीजिए।

() छतों को भी नरम बनाते हुए
दिशाओं की मृदंग की तरह बजाते हुए
() अगर वे कभी गिरते हैं छतों के खतरनाक किनारों से
और बच जाते हैं तब तो
और भी निडर होकर सुनहले सूरज के सामने आते हैं।

  1. दिशाओं को मृदंग की तरह बजाने का क्या तात्पर्य हैं?
  2. जब पतंग सामने हो तो छतों पर दौड़ते हुए क्या आपको छत कठोर लगती हैं?
  3. खतरनाक परिस्थितियों का सामना करने के बाद आप दुनिया की चुनौतियों के सामने स्वयं को कैसा महसूस करते हैं?

उत्तर

  1. इसका तात्पर्य है कि पतंग उड़ाते समय बच्चे ऊँची दीवारों से छतों पर कूदते हैं तो उनकी पदचापों से एक मनोरम संगीत उत्पन्न होता है। यह संगीत मृदंग की ध्वनि की तरह लगता है। साथ ही बच्चों का शोर भी चारों दिशाओं में गूँजता है।
  2. जब पतंग सामने हो तो छतों पर दौड़ते हुए छत कठोर नहीं लगती। इसका कारण यह है कि इस समय हमारा सारा ध्यान पतंग पर ही होता है। हमें कूदते हुए छत की कठोरता का अहसास नहीं होता। हम पतंग के साथ ही खुद को उड़ते हुए महसूस करते हैं।
  3. खतरनाक परिस्थितियों का सामना करने के बाद हम दुनिया की चुनौतियों के सामने स्वयं को अधिक सक्षम मानते हैं। हममें साहस व निडरता का भाव आ जाता है। हम भय को दूर छोड़ देते हैं।

कविता के आसपास

प्रश्न 1: आसमान में रंगबिरंगी पतगों को देखकर आपके मन में कैसे खयाल आते हैं? लिखिए

उत्तर आसमान में रंग-बिरंगी पतंगों को देखकर मेरा मन खुशी से भर जाता है। मैं सोचता हूँ कि मेरे जीवन में भी पतंगों की तरह अनगिनत रंग होने चाहिए ताकि मैं भरपूर जीवन जी सकूं। मैं भी पतंग की तरह खुले आसमान में उड़ना चाहता हूँ। मैं भी नयी ऊँचाइयों को छूना चाहता हूँ।

प्रश्न 2:रोमांचित शरीर का संगतिका जीवन के लय से क्या संबंध है?

उत्तर ‘रोमांचित शरीर का संगीत’ जीवन की लय से उत्पन्न होता है। जब मनुष्य किसी कार्य में पूरी तरह लीन हो जाता है तो उसके शरीर में अद्भुत रोमांच व संगीत पैदा होता है। वह एक निश्चित दिशा में गति करने लगता है। मन के अनुकूल कार्य करने से हमारा शरीर भी उसी लय से कार्य करता है।

प्रश्न 3:महज एक धागे के सहारे, पतंगों की धड़कती ऊँचाइयाँउन्हें (बच्चों को) कैसे थाम लेती हैं? चचा करें।

उत्तर पतंग बच्चों की कोमल भावनाओं से जुड़ी होती है। पतंग आकाश में उड़ती है, परंतु उसकी ऊँचाई का नियंत्रण बच्चों के हाथ की डोर में होता है। बच्चे पतंग की ऊँचाई पर ही ध्यान रखते हैं। वे स्वयं को भूल जाते हैं। पतंग की बढ़ती ऊँचाई से बालमन और अधिक ऊँचा उड़ने लगता है। पतंग का धागा पतंग की ऊँचाई के साथ-साथ बालमन को भी नियंत्रित करता है।

हिंदी आरोह के सभी पाठों का हल – Chapter wise

Advertisement