Samvad Lekhan पेयजल की समस्या पर संवाद – संवाद लेखन

Peyjal ki samsya par samvad- Samvad Lekhan

उर्मिला : आज सुबह ही मैंने समाचार पत्र में पढ़ा की पूरे संसार में पेयजल का संकट घिरा हुआ है ।मेरी तो समझ में ही नहीं आ रहा है कि यदि अभी यह हाल है तो आगे क्या होगा ? भावी पीढ़ी का गुज़ारा कैसे होगा ?

कविता : अरे उर्मिला ! यह सब हमारा ही तो करा-धरा है जो हम अब भुगत रहे हैं। इंसान के अपने ही लालच के कारण भू-जल का स्तर गिर गया है और कितनी ही नदियों में गंदगी मिलने के कारण उनका जल पीने योग्य नहीं रह गया ।

उर्मिला ; तुम ठीक कह रही हो कविता । हम लोग ही पानी का इतना दोहन कर रहे है कि पीने योग्य पानी का अभाव होने लगा हैं । विकास के नाम पर जो प्रकृति के साथ खिलवाड़ हो रहा है उसके कारण कितने ही जल के प्रक्क्रुतिक स्रोत अब सूखने लगे हैं और कितने ही सूख चुके हैं ।

कविता : कई देशों में तो नहाने और मल बहाने में ही जरुरत से कहीं अधिक पीने योग्य जल बहा दिया जाता हैं । जिसके कारण यह स्थिति है कि कई देशों को मल मिला हुआ जल पीने के काम में लाना पड़ता है ।

उर्मिला : बदलते पर्यावरण के कारण भी पृथ्वी का जल स्तर गिर रहा है । साथ ही अनियंत्रित औद्योगिक गतिविधियों के कारण पीने योग्य जल दूषित हो हो रहा है ।

कविता : तुम्हे पता है कि इंसान बिना पानी के तीन दिन भी जिन्दा नहीं रह सकता और विश्व के कई देश तो इस समस्या से जूझने भी लगा हैं ।

उर्मिला : यदि अभी भी इस और ध्यान नहीं दिया गया तो आने वाली पीढ़ी की दशा क्या होगी यह हम समझ ही सकते हैं ।

यह संवाद लेखन विद्यार्थियों के लिए निम्न विषयों पर उपयोगी होगा – Samvad Lekhan, samvad lekhan meaning, samvad lekhan in hindi for class 8, samvad lekhan meaning in english, samvad lekhan in hindi for class 7, samvad lekhan format class 9, samvad lekhan marathi, shunya kachra samvad lekhan, 5 samvad lekhan, samvad lekhan in hindi for class 6, samvad lekhan in hindi for class 5, samvad lekhan in hindi for class 10

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *