पुस्तक कौन सी संज्ञा है? pustak shabd mein kaun si Sangya hai?

पुस्तक कौन सी संज्ञा है? pustak kaun si sangya hai?

यहाँ पर किसी विशेष पुस्तक की बात न होकर पुस्तक का प्रयोग एक जाति के रूप में किया गया है। अतः पुस्तक शब्द जातिवाचक संज्ञा है।

पुस्तक शब्द में संज्ञा का वाक्य प्रयोग द्वारा उदाहरण :-

श्रीमद्भागवत गीता हिंदू धर्म की पवित्र पुस्तक है

स्वामी दयानंद ने सत्यार्थ प्रकाश नामक पुस्तक लिखकर हिंदू धर्म में फैली हुई कुरीतियों को उजागर किया

pustak kaun si sangya hai?

pustak Jati Vachak Sangya hai.

जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा :-

जो शब्द किसी जाति का बोध करवाता है, उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे सोना, लड़की, नदी, पर्वत, झील, सड़क आदि।

जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण Jati Vachak Sangya examples in Hindi :-

‘वस्तु’ से मकान कुर्सी, पुस्तक, कलम आदि का बोध होता है।

‘नदी’ से गंगा यमुना, कावेरी आदि सभी नदियों का बोध होता है।

‘मनुष्य’ कहने से संसार की मनुष्य-जाति का बोध होता है।

‘पहाड़’ कहने से संसार के सभी पहाड़ों का बोध होता है।

ऊपर दिए गए वाक्यों में वस्तु, नदी, मनुष्य और पहाड़ आदि जातिवाचक संज्ञा शब्द कहलायेंगे क्योंकि ये किसी विशेष बच्चे या पक्षी का बोध न कराकर सभी बच्चो व पक्षियों का बोध करा रहे हैं।

संज्ञा के बारे में परीक्षा में अनेक प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं। जैसे कि –

जातिवाचक संज्ञा meaning in English, जातिवाचक संज्ञा के 10 उदाहरण वाक्य, जातिवाचक संज्ञा के 10 उदाहरण शब्द, जातिवाचक संज्ञा को परिभाषित करो, जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना, आप इन सभी प्रश्नों का उत्तर इस पोस्ट को पढ़ कर दे सकते हैं।

संज्ञा की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण की विस्तार से जानकारी के लिए निम्न पोस्ट पढ़ें :-

संज्ञा की परिभाषा, भेद, उदाहरण 

10 Important संज्ञा शब्द जो परीक्षा में पूछे जा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *