Advertisement

Putra aur pita ke madhye putra ki padai ke vishye mein samvad- Samvad Lekhan

पिता : किशोर तुम्हारी पढाई कैसी चल रही है ?

किशोर : जी पिताजी अच्छी चल रही है ।

पिता : तुम्हे पता है ना कि यह साल तुम्हारे लिए कितना अहम है ।

किशोर : जी पिताजी ।

Advertisement

पिता : हाँ, इस बात को ध्यान रखना । यदि किसी बड़े विश्वविध्यालय से स्नातक करना चाहते हो तो बारहवीं में तुम्हे बहुत ही अच्छे अंक लाने होंगे ।

किशोर : जी पिताजी, यही सोचकर मैंने अपनी पढ़ाई के लिए दिन-रात एक कर रखे हैं । जिससे मेरिट सूचि में मेरा नाम आ जाय ।

पिता : हाँ, मेरिट सूचि के बाद भी एक परीक्षा होगी जिसमें उत्तीर्ण होने के बाद ही तुम्हे विश्वविध्यालय में प्रवेश मिलेगा ।

किशोर : जी पिताजी । यही सोच कर मैं अपनी पढ़ाई कर रहा हूँ ।

पिताजी : अच्छे से अपनी पढ़ाई करोगे तो तुम्हे कहीं मात नहीं खानी पड़ेगी ।

किशोर जी पिताजी ।

Advertisement

पिताजी : कभी भी तुम्हे लगे कि तुम्हे कुछ समझने में दिक्कत हो रही है तो उसे रटना मत शुरू का देना । मुझे बताना मैं हर प्रकार से तुम्हारी सहायता करूँगा ।

किशोर : जी पिताजी । आपने बचपन से ही मेरी पढ़ाई में इतनी सहायता की है और मुझे इतनी अच्छी तरह से पढ़ाते आये हैं कि उसी कारण से आज मैं इतनी मेहनत कर पा रहा हूँ ।

यह संवाद लेखन विद्यार्थियों के लिए निम्न विषयों पर उपयोगी होगा – Samvad Lekhan, samvad lekhan meaning, samvad lekhan in hindi for class 8, samvad lekhan meaning in english, samvad lekhan in hindi for class 7, samvad lekhan format class 9, samvad lekhan marathi, shunya kachra samvad lekhan, 5 samvad lekhan, samvad lekhan in hindi for class 6, samvad lekhan in hindi for class 5, samvad lekhan in hindi for class 10

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here