Rahim ke dohe ओछो काम बड़े करैं तौ न बड़ाई होय।

Rahim ke dohe in Hindi:

ओछो काम बड़े करैं तौ न बड़ाई होय।
ज्यों रहीम हनुमंत को, गिरिधर कहै न कोय।।

Ochho kam bade karai tou na badaai hoy,
Jyon rahim hanumant ko, giridhar kahai na koy

रहीम के दोहे का अर्थ:

ऐसा क्यों होता है कि बड़ा काम यदि छोटे द्वारा संपादित हो तो उसे वैसा यश नहीं मिलता है, जैसा कि बड़े को बड़ा काम करते हुए मिलता है। ऐसा संभवतः व्यक्तियों के महत्व को देखते हुए होता है। किसे यश देना है और किसे नहीं, लोग इसका निर्णय व्यक्ति की गरिम व पद के अनुसार करते हैं।

रहीम कहते हैं, छोटा व्यक्ति यदि बड़ा काम करे तो उसकी बड़ाई नहीं होती। हनुमान ने संजीवनी बूटी वाला पहाड़ उठा लिया था, किंतु उनको कोई कृष्ण की तरह गिरिधर नहीं कहता। इसका कारण यही हो सकता है कि कृष्ण साक्षात हरि के अवतार थे, जबकि हनुमान हरि के दूसरे अवतार राम के परम सेवक।

Rahim ke dohe रहीम के 25 प्रसिद्ध दोहे अर्थ व्याख्या सहित

25 Important परीक्षा में पूछे जाने वाले रहीम के दोहे :

अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं और विद्यालयी परीक्षाओं में रहीम के दोहे संबन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं जिनमें मार्क्स लाना आसान होता है किन्तु सही जानकारी और अभ्यास के अभाव में अक्सर विद्यार्थी रहीम के दोहों के प्रश्न में अंक लाने में कठिनाई अनुभव करते हैं। हमने प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाने वाले रहीम के दोहों को अर्थ एवं व्याख्या सहित संग्रहीत किया है जिनका अभ्यास करके आप पूर्ण अंक प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *