Rahim ke dohe रहिमन पानी राखिए, बिनु पानी सब सून।

Rahim ke dohe in Hindi:

रहिमन पानी राखिए, बिनु पानी सब सून।
पानी गए न उबरहिं, मोती मानु श चून।।

Rahiman paani rakhiye, binu pani sab soon,
Pani gaye na ubarai, moti maanush choon

रहीम के दोहे का अर्थ:

निस्संदेह जल का बहुत महत्व है, बल्कि यह कहा जाए कि जल ही सर्वस्व है तो अतिशयोक्ति न होगी। जल के अभाव में सृष्टि की कल्पना करना व्यर्थ है। इसके अतिरिक्त जल का सामाजिक अर्थ भी है। जल को सम्मान का पर्यायवाची माना जाता है। जिस व्यक्ति का आचरण अशालीन होता है, जो स्वार्थसिद्धि के लिए अपनी मर्यादा तज देता है, उसे प्रायः इस लोकोक्ति का सामना करना पड़ता है कि ‘तुम्हारी आंखों का तो पानी ही मर गया है।’

रहीम जल की महिमा को रेखांकित करते हुए कहते हैं कि जल को सदैव अपने पास रखिए, उसकी कभी भी आवश्यकता पड़ सकती है। जल के बिना कोई काम नहीं सुधरेगा। जल नहीं तो मनुष्य, आटे, मोती व चूने की गति नहीं। जल के अभाव में मनुष्य के प्राण कंठ में आ जाते हैं, आटा बिना गुंथा रह जाता है, मोती का शान उतर जाती है और चूना अनुपयोगी रह जाता है। अतः जल के बिना किसी का उद्धार नहीं होता।

Rahim ke dohe रहीम के 25 प्रसिद्ध दोहे अर्थ व्याख्या सहित

25 Important परीक्षा में पूछे जाने वाले रहीम के दोहे :

अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं और विद्यालयी परीक्षाओं में रहीम के दोहे संबन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं जिनमें मार्क्स लाना आसान होता है किन्तु सही जानकारी और अभ्यास के अभाव में अक्सर विद्यार्थी रहीम के दोहों के प्रश्न में अंक लाने में कठिनाई अनुभव करते हैं। हमने प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाने वाले रहीम के दोहों को अर्थ एवं व्याख्या सहित संग्रहीत किया है जिनका अभ्यास करके आप पूर्ण अंक प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *