किन चीजों से करना चाहिए शिवजी का अभिषेक?

Shivji ka abhishek kin cheejon se karna chahiye?

भगवान शिव को जलधारा प्रिय मानी जाती है। शास्त्रों में बताया गया है कि जल व पंचामृत धारा से पूजा करने पर शिवजी की कृपा प्राप्त होती है। अभिषेक करते समय ऋग्वेद, यजुर्वेद और सामवेद के मंत्र बोले जाते हैं। रुद्राष्टाध्यायी मंत्रों का भी उल्लेख मिलता है।
जल में दूध मिला कर या केवल दूध से भी अभिषेक किया जाता है। विशेष पूजा में दूध, दही, घृत, शहद और चीनी से अलग अलग अथवा सभी को मिलाकर पंचामृत से भी अभिषेक किया जाता है। लेकिन हर धारा से अभिषेक का विशेष फल प्राप्त होता है। इसीलिए अलग अलग वस्तुओं की धारा से शिवजी का अभिषेक किया जाता है।
कहते हैं भगवान शिव को दूध की धारा से अभिषेक करने से मूर्ख भी बुद्धिमान हो जाता है, घर का कलह शांत हो जाता है। जल धारा की धारा से अभिषेक करने से विभिन्न कामनाओं की पूर्ति होती है। घी की धारा से अभिषेक करने से वंष का विस्तार, रोगों का नाश तथा नपुंसकता दूर होती है। इत्र की धारा से भोग की वृद्धि होती है। शहद से टीबी रोग का नाश होता है। ईख के रस की धारा से आनंद की प्राप्ति होती है।
गंगाजल से एवं मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसीलिए माना जाता है कि सावन में सारे सुखों की प्राप्ति के लिए इन छः चीजों से शिवजी का अभिषेक जरूर करना चाहिए।